कैथल के युवक का कनाडा जाने का सपना टूटा:युवती ने दिया शादी करके कनाडा ले जाने का झांसा, पढ़ाई के खर्च में लिए 15.23 लाख रुपए; और रकम न देने पर मुकर गई विवाह से

करनालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर

हरियाणा के कैथल में शादी के नाम पर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। करनाल की युवती कैथल के युवक को कनाडा लेकर जाती। इसके लिए युवक को उसकी पढ़ाई का खर्च उठाना था। 15.23 लाख लेने के बाद और पैसों की मांग पूरी नहीं की तो शादी से मना कर दिया। न तो विदेश लेकर गई और न ही पैसे वापस दिए।

गांव चाबा जिला कैथल निवासी यादविंद्र सिंह ने शिकायत में बताया कि उसकी शादी 26 अगस्त 2018 को लवप्रीत निवासी गांव अलीपुर विरान जिला करनाल के साथ सिक्ख रीति-रिवाज के अनुसार हुई थी। जोकि सब रजिस्ट्रार गुहला में 28 अगस्त 2018 को दर्ज है।

शादी से पहले बलविंद्र सिंह ने उसके जीजा प्रदीप सिंह निवासी गांव अलीपुर विरान को कहा कि उसकी भतीजी लवप्रीत उच्च शिक्षा प्राप्त के लिए कनाडा गई है। जहां खर्चा बहुत है और पढ़ाई के लिए फीस भी ज्यादा है। उसका भाई भगवंत सिंह खर्चा नही उठा सकता है। अगर उनके परिवार वाले उस लड़की की पढ़ाई का खर्चा उठा सकते हैं तो लवप्रीत की शादी यादविन्द्र सिंह के साथ कर देंगे और लवप्रीत-यादविन्द्र सिंह को कनाडा ले जाएगी। दोनों परिवार की सहमति के बाद लड़की पढ़ाई के लिए 4 लाख 46 हजार रुपए विदेश भेजने के लिए 25 जून 2018 को लिए। सितंबर 2018 में लवप्रीत ने कनाडा जाते समय मेडिकल फीस के लिए 1 लाख 50 हजार रुपए लिए। अक्टूबर 2018 को 8 लाख 33 हजार रुपए फीस के लिए लवप्रीत के पिता ने लिए। दिसंबर 2018 में भगवंत सिंह अपनी पत्नी राजकौर व लड़के सिमरतपाल सिंह को लेकर उसके घर आया और कहने लगा की लवप्रीत को भारत वापस बुलाना है। और उसके कनाडा जाने के लिए दस्तावेज तैयार करवाने है। इसके लिए 94 हजार रुपए उसके खाते में जमा करवा दिए।

पैसे देने से मना किया तो शादी से इनकार
कुछ समय बाद कागजात तैयार करने के नाम पर 4 लाख 50 हजार रुपए की मांग की। उन्होंने इस बार पैसे देने से इनकार कर दिया तो उन्होंने शादी से मना कर दिया। उसके बाद बलविंद्र सिंह ने भी फोन करके उसके साथ गाली-गलौज की और दूसरे लड़के साथ लड़की को कनाडा भेजने की तैयारी करवा दी।

शिकायत के बाद हुई पंचायत, वापस नहीं दिए पैसे
उन्होंने एसपी कैथल को शिकायत दी तो 4 जुलाई 2019 को इकोनॉमिक सेल में भेज दी। उन्होंने पंचायत बुलाई। पंचायत के कहने पर सितंबर 2019 तक उसे कनाडा ले जाने के लिये कागजातों की कार्रवाई शुरु कर दी, लेकिन काम नहीं हुआ। इसके बाद फिर से 16 दिसंबर 2019 को मामले की जानकारी एसपी कैथल को दी। गुहला थाने ने दोनों पक्षों को 8 जनवरी 2020 को उनका पंचायत में राजीनामा करवा दिया। लेकिन पैसे वापस नहीं दिए। अब उसे फंसाने की धमकी देते हैं।

पांच के खिलाफ केस दर्ज
गुहला थाना के सब इंस्पेक्टर महाबीर सिंह ने बताया कि पुलिस ने शिकायत के आधार पर अलिपुर विरान निवासी भगवंत सिंह, राज कौर, बलविन्द्र सिंह, सिमरत पाल सिंह, लवप्रीत के खिलाफ केस दर्ज किया है।

खबरें और भी हैं...