पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खेल प्रतियोगिता:हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद ने पहली से 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए भेजा खेल का सामान

करनाल21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना की स्थिति सामान्य हाेने के बाद विद्यार्थियों को खेल प्रतियोगिताओं के लिए किया जाएगा तैयार

कोरोना महामारी के चलते पिछले डेढ़ साल से विद्यार्थी ज्यादातर घरों में रह रहे है। स्कूलों में विद्यार्थियों की पढ़ाई ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यम से चल रही है। लेकिन विद्यार्थी कोरोना के दौर में स्कूलों में न जाने के कारण साल भर से खेल नहीं पाए हैं। इसके लिए हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ खेलों की सुविधाएं प्रदान करेगा। इसके लिए विभाग ने स्कूलों में बड़े स्तर पर करीब करोड़ों का खेल सामान खरीदा है।

कोरोना महामारी की स्थिति सामान्य होने के बाद राजकीय स्कूलों में विद्यार्थियों को खेल सामान की पूरी सुविधाएं प्राप्त होगी। इसके लिए विभाग की ओर से विद्यार्थियों के लिए शिक्षा के साथ एक घंटा अतिरिक्त खिलाड़ियों को दिया जाएगा। विद्यार्थी कैरम बोर्ड से लेकर लूडो, क्रिकेट व वॉलीबाल, बॉस्केटबाल व रस्सा-कूद विभिन्न मनपंसद खेल सकेंगे। जिससे खिलाड़ी खेल के सामान का उपयोग कर अपनी प्रतिभाएं को निखारंगे। समग्र शिक्षा विभाग के डीपीसी रोहताश वर्मा ने बताया कि पीटीआई व डीपीए विद्यार्थियों को खेलो में आगे बढ़ाने व उनमें अधिक रुचि पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करेगें।

तीन निजी कंपनियों को खेल सामान का दिया गया था टेंडर

हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद ने बेंगलुरु व जालंधर की तीन निजी कंपनियों को खेल सामान के लिए करीब एक करोड़ का टेंडर किया गया था। कंपनियों की ओर से मई से ही जिले के 487 प्राइमरी,मीडिल 119, हाई 65 स्कूल, सीनयर सेकेंडरी के 107 स्कूलों में लाखों विद्यार्थियों के लिए खेल का सामान भेजा गया है। स्कूलों में खेल का सामान पहुंच चुका है।

खबरें और भी हैं...