पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

छोटी बातों में बड़ी तकरार:बाहर जॉब करता है पति, हफ्ते में आता है, इसलिए पत्नी दर्ज कराया केस; इस साल अब तक 149 एफआईआर दर्ज

करनालएक महीने पहलेलेखक: अनिल भारद्वाज
  • कॉपी लिंक
वर्ष 2020 में 252 और वर्ष 2019 में 259 केस दर्ज किए गए। प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
वर्ष 2020 में 252 और वर्ष 2019 में 259 केस दर्ज किए गए। प्रतीकात्मक फोटो
  • घरेलू हिंसा के कारण ही करनाल में चार घातक परिणाम आ चुके हैं

घरेलू हिंसा से महिला और पुरुष प्रताड़ित हैं। सुलह के लिए न पति झुक रहा है और न ही पत्नी। इस कारण परिवारों में तकरार बढ़ गई है। पुलिस थानों में परिवार टूटने के केस निरंतर बढ़ रहे हैं। कहीं बहु की शिकायत पर पति, सास, ससुर ननंद, देवर पर कार्रवाई करवाई जा रही है तो कई केस में सास ने भी बहु के खिलाफ केस दर्ज करवाए हैं।

घर की चौखट की लड़ाई गली-थानों में खूब चर्चित हो रही हैं। यही कारण है कि वर्ष 2021 में जनवरी से अब तक 149 एफआईआर हो चुकी हैं, जबकि वर्ष 2020 में 252 केस दर्ज किए थे। लॉकडाउन के कारण भी लड़ाई बढ़ी हैं। क्योंकि पूरा परिवार घर पर होने के कारण खासकर महिलाओं पर काम का बोझ बढ़ने से आराम नहीं मिलता। इस कारण उनके गुस्से से विवाद बढ़ रहा है।

पुलिस की जांच में सामने आया है कि महिलाओं का मायके पक्ष की तरफ से मिले स्पॉट के कारण भी ज्यादा केस बिगड़े हैं। 30 प्रतिशत केस ऐसे आए, जिनमें महिला ने मायके पक्ष पर बात छोड़ दी। मायके पक्ष ने समझौता करने की बजाए कानूनी कार्रवाई करने का रास्ता अपनाया है।

40 प्रतिशत में पति-पत्नी की छोटी-छोटी बातों पर बहस और 30 प्रतिशत में सास और ननंद के साथ बहु की रच नहीं पाई। इसके समाधान के लिए पुलिस अधिकारियों का सुझाव है कि घर की छोटी-छोटी बातों काे इश्यू न बनाकर परिवार के मौजिज लोगों को चाहिए कि मनमुटाव दूर कर दें। ताकि घर की बात चाैखट के बाहर न पहंुचे।

घरेलू लड़ाई के चार घातक परिणाम : तीन मासूम बच्चों की जिंदगी की खत्म

घरेलू हिंसा के दर्दनाक अंजाम वाली जून में जिले चार घटनाएं हुईं। इसमें मासूम बच्चों की जान चली गई और पूरा परिवार तबाह हो गया।

1-एक जून को कुरुक्षेत्र की महिला मीनू ने अपने चार साल के बेटे के साथ कर्ण लेक नहर में कूद गई। महिला को बचा लिया गया पर बच्चे की मौत हो गई। पति के शिकायत पर मीनू पर हत्या का केस दर्ज कर लिया गया। 2-पनौडी गांव की अंजू पति से परेशान होकर दो बच्चों के साथ नहर में कूद गई। उसको लोगों ने बचा लिया, पर 11 साल की बेटी और 4 साल बेटे की मौत हो गई। 3-घोघड़ीपुर गांव की महिला ने नहर में छलांग लगा दी। 4- करनाल के एक गांव वासी राजकुमार ने पत्नी से झगड़ा करके नहर में छलांग लगा दी। यह अपने पीछे ढाई साल की बेटी और पत्नी को छोड़ गया।

आरोप प्रत्यारोप : इन बातों पर टूट रही है रिश्ते की डोर

केस 1 पत्नी की डिलीवरी पर अस्पताल में बिल जमा नहीं किया तो करवाया केस दर्ज

शहर की एक महिला ने शिकायत दी कि उसका पति प्राइवेट जॉब करता है। डिलीवरी के दौरान वह अपने मायके चली गई। लेबर पेन के दौरान निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। बेटी को जन्म दिया। लेकिन ससुराल पक्ष की तरफ से अस्पताल का 35 हजार रुपए बिल जमा नहीं करवाया गया। यह पैसे उसके पापा ने जमा करवाए हैं।

आरोप लगाया कि ससुराल पक्ष के लोग लड़की के जन्म से खुश नहीं हैं। इस कारण उसे फोन पर भी बात नहीं करते हैं। ससुराल गई तो ताने भी देने लगे हैं। इस केस में पुलिस की तरफ से दोनों पक्षों को समझौते का टाइम दिया गया, लेकिन समझौता नहीं होने पर महिला की शिकायत पर ससुराल पक्ष पर केस दर्ज कर लिया है।

केस-2 : पति टाइम नहीं देता, फोन नहीं उठाता है

शादी के एक साल बाद महिला पूजा ने शिकायत दी कि उसका पति दूसरे शहर में जॉब करता है। सप्ताह में एक बार आता है। दिन में घर पर नहीं रहता और न ही दिन में फोन रिसीव करता है। सास को पति के बारे में बताती हूं ताे वह भी मेरी बात नहीं सुनतीं हैं। घर में सामान लेकर नहीं देते। खाना अच्छा नहीं बनता है तो ताने मारने लगते हैं। इससे परेशान हो चुकी है। कई बार मन करता है कि जिंदगी खत्म कर लूं। थाने में मामला दर्ज है।

पुलिस के रिकॉर्ड के अनुसार घरेलू हिंसा के केस

  • वर्ष केस दर्ज केस ट्रेस आरोपी गिरफ्तार
  • 2019 259 255 182
  • 2020 252 250 137
  • 2021 अब तक 149 147 33

बात करके मामले को सुलझाएं

घरेलू हिंसा की शिकायतें आ रहीं हैं। महिला की शिकायत पर तुरंत एफआईआर की जाती है। कई केसों में परिवारों में समझौते भी हो जाते हैं। जो केस दर्ज किए गए हैं, उनमें 99 प्रतिशत केसों को ट्रेस किया जा चुका है। घरों में होने वाली छोटी-छोटी बातों का इश्यू न बनाकर अपने स्तर पर सुलझा लेने चाहिए।
गंगाराम पुनिया, एसपी करनाल

खबरें और भी हैं...