पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एड्स के रोकथाम को किया जागरूक:महिला एवं बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर को सीडीपीओ को दी एड्स से संबंधित जानकारी

करनाल9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य विभाग की ओर से मंगलवार को आयोजित एचआईवी एड्स जागरूकता कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग की सुपरवाइजरों और सीडीपीओ को प्रशिक्षण दिया गया। डाॅ. सौभाग्या ने एचआईवी एड्स के फैलने के कारण, लक्षण व रोकथाम के बारे में बताया। इसको लेकर समाज में फैली भ्रांतियों को दूर किया।

उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं के लिए एचआईवी व वीडीआरएल टेस्ट जरूरी है। एचआईवी एड्स के टेस्ट प्रदेश के सभी आईसीटीसी केंद्रों पर नि:शुल्क किए जाते हैं। संक्रमित व्यक्तियों की जांच व दवाइयां मुफ्त दी जाती हैं। सारी जानकारी गुप्त रखी जाती है। नवजात शिशु को संक्रमण से बचाने के लिए कौन सी दवाइयां देनी है, उसके बारे में भी बताया। उन्होंने टीबी के कारण, लक्षण व रोकथाम के बारे में भी जानकारी दी। उप सिविल सर्जन डा. सिम्मी कपूर ने कहा कि जो एचआईवी एड्स की जानकारी दी गई है, उसे सभी के साथ सांझा करें ताकि एचआईवी एड्स की जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाई जा सके तथा एचआईवी के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

खबरें और भी हैं...