कैथल का मां-बेटी हत्याकांड:हत्यारोपी दर्शन का रिमांड पूरा, जेल भेजने की तैयारी; 3 लाख के लालच में देवर ने सुपारी दी थी

करनाल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के कैथल जिले में मां-बेटी को कुल्हाड़ी से काटकर मारने वाले हत्यारोपी मोहना गांव निवासी दर्शन को पूंडरी थाना पुलिस आज कोर्ट में पेश करेगी। हत्या के पीछे के कारण जानने के लिए उसे तीन दिन के पुलिस रिमांड लिया हुआ था। इससे पहले दर्शन के नौकर त्रिपुरा निवासी इस्माइल को CIA पुलिस ने जेल भेजा हुआ है। दर्शन के कहने पर उसने मां-बेटी को मारा था।

पूछताछ में पता चला है कि दर्शन मृतका के परिवार का सदस्य है। नाते में वह मृतका का देवर लगता है। कुछ समय पहले NH-152D के तहत उनकी जमीन अधिगृहित हुई थी। उसके मुआवजे के रूप में भूमि के रिकॉर्ड के अनुसार सभी के खाते में पहली किस्त के 8-8 लाख रुपए आए। दूसरी बार में दर्शन के खाते में 8 लाख रुपए आए, जबकि गीता के खाते में एक लाख रुपए आए।

8 लाख में से 3 लाख रुपए दर्शन को गीता के परिवार को देने थे। यह पैसे न देने पड़े, इसलिए उसने गीता को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। घटना के एक सप्ताह पहले ही उसने गांव में फैला दिया कि उसने अपने नौकर को हटा दिया, ताकि उस पर कोई शक न हो। फिर उसने नौकर को 30 हजार रुपए देकर गीता और उसके बच्चों की हत्या की साजिश रची।

दर्शन का नौकर।
दर्शन का नौकर।

क्या था पूरा मामला
पड़ोसियों के अनुसार, 13 अक्टूबर बुधवार की रात करीब सवा 11 बजे गीता के घर से चिल्लाने की आवाज आई। परिवार में 36 साल की विधवा गीता, उसका 11 साल का बेटा सूक्ष्म व 8 साल की बेटी स्मृति रहती है। चिल्लाने की आवाज सुनकर उनकी आंखें खुली तो बाहर आकर देखा और गीता को फोन किया। कई बार फोन करने के बाद भी कोई बाहर नहीं आया। फिर घर से आवाजें आनी बंद हो गईं और परिवार इंतजार करने के बाद वे भी अपने घर जाकर सो गए। 14 अक्टूबर की सुबह करीब 6 बजे सूक्ष्म ने उनके घर आकर पानी मांगा और अपनी मां व बहन की हालत के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने इसकी सूचना उसके रिश्तेदारों और सरपंच को दी। उन्होंने पुलिस को बुलाया। घर में जाकर देखा तो विधवा गीता जमीन पर मृत अवस्था में खून में लथपथ मिली और 8 साल स्मृति बेड पर इसी हालत में मिली। सूक्ष्म को उन्होंने पूंडरी के निजी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती करवा दिया था। अब सूक्ष्म की हालत खतरे से बाहर है। पड़ोसियों का कहना है कि यदि रात के समय ही परिवार के लोग पहुंचते तो शायद मां-बेटी बच सकती थीं।

पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ किया था केस दर्ज
पूंडरी थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की। अन्य जांच टीमें व एसपी भी टीम के साथ मौका मुआयना करने पहुंचे। इसके बाद जांच टीमों का गठन करके आगामी कार्रवाई की गई। मोहना निवासी संजीव कुमार की शिकायत पर थाना पूंडरी में दर्ज मामले के तहत गीता तथा उसकी बेटी स्मृति की अज्ञात व्यक्ति द्वारा तेजधार हथियार से हत्या कर दी गई। बेटे सूक्ष्म को भी आरोपी द्वारा सिर में गहरी चोटें मारी गई, जो किसी तरह खुद को बचाने में कामयाब रहा।

नौकर ने पूछताछ में मारना कबूला तो किया गिरफ्तार
थाना पूंडरी, सीआईए-1 तथा सीआईए-2 की टीम ने जांच करते हुए गांव में चर्चा के आधार पर कुछ लोगों को पूछताछ में शामिल किया। इस दौरान 30 वर्षीय आरोपी गांव उत्तर फुलवाड़ी जिला अगरतला त्रिपुरा निवासी इस्माइल अली उर्फ राजू ने हत्या करना माना तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी मृतका के पड़ोसी के यहां नौकरी करता रहा। 3 दिन के पुलिस रिमांड के दौरान आरोपी ने बताया कि उसको 30 हजार रुपए का लालच देकर हत्या करवाई गई थी। इस खुलासे के बाद पुलिस ने दर्शन को गिरफ्तार किया था।