नारायणगढ़ में किसान को टक्कर मारने का मामला:खेल मंत्री संदीप सिंह को बुलाया था कार्यक्रम में; न आने पर परिवहन मंत्री के साथ नायब सैनी पहुंचे, पहले भी विवादों से ‌BJP सांसद का रहा है नाता

करनाल20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नारायणगढ़ में प्रदर्शन करते हुए किसान। - Dainik Bhaskar
नारायणगढ़ में प्रदर्शन करते हुए किसान।

नारायणगढ़ की सैनी धर्मशाला में गुरुवार को सामाजिक, धार्मिक और कोरोना योद्धाओं का सम्मान करने के लिए सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में मुख्यतिथि के रूप में खेल मंत्री संदीप सिंह को बुलाया गया था। किसी कारण उनके कार्यक्रम में न आने पर परिवहन मंत्री मूल चंद्र शर्मा और सांसद नायाब सैनी सैनी धर्मशाला में पहुंचे। कार्यक्रम खत्म होने के बाद परिवहन मंत्री शर्मा का काफिला निकल गया। कुरुक्षेत्र सांसद नायब सिंह सैनी उनके पीछे आ रहे थे। कुछ दूर खड़े किसानों ने सांसद सैनी की गाड़ी का विरोध किया। इसके बाद अंबाला के नारायणगढ़ से बीजेपी सांसद नायब सैनी पर गाड़ी से किसान को टक्कर मारने का आरोप लगा।

किसानों की शिकायत पर अभी नहीं हुआ केस दर्ज

किसान की हालत सामान्य है और इलाज के बाद वह अपने घर पहुंच चुका है। लेकिन किसानों ने नारायणगढ़ थाने में शिकायत देकर सांसद सैनी और उनके ड्राइवर के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है। हालांकि पुलिस ने अभी तक किसानों की शिकायत पर मामला दर्ज नहीं किया है। गांव बकाला जिला यमुनानगर निवासी भवनप्रीत यमुनानगर भाकियू के साथ सदस्य के तौर पर जुड़ा हुआ है।

कई बार किसानों को लेकर विवादों में रहे सैनी
बता दें कि यह पहला मौका नहीं है, जब किसानों और सांसद नायब सैनी का विवाद हुआ हो। सांसद सैनी अक्सर किसानों पर विवादित बयानबाजी करते रहते हैं। किसान भी सांसद सैनी का विरोध करने से कभी पीछे नहीं हटते। उन्होंने दो बार सांसद सैनी की गाड़ी के शीशे तक तोड़े हैं। एक बार शिलान्यास पट्‌ट पर काली स्याही फेंकी और कई बार कार्यक्रम रद्द करवाया है।

सांसद ने टिकैत को बताया कांग्रेस के हाथों का खेल
21 मार्च को सांसद नायब सैनी करनाल में कई परियोजनाओं का उद्घाटन करने पहुंचे थे तो उन्होंने कहा था कि राकेश टिकैत कांग्रेस के हाथों में खेल रहे हैं। वे ऐसी जगह जाकर किसानों की बात कर रहे हैं, जहां पर किसानों का शोषण हुआ है। इस बात पर किसानों ने सांसद सैनी का खूब विरोध किया था।

शाहबाद में सांसद की गाड़ी का पिछला शीशा तोड़ा
भाजपा के स्थापना दिवस पर 6 अप्रैल को शाहबाद में कार्यकर्ताओं के घर पहुंचे सांसद नायब सिंह सैनी की गाड़ी का किसानों ने घेराव करके शीशा तोड़ दिया था। एक किसान गाड़ी को रोकने के लिए बोनट पर लेट गया तो सांसद का ड्राइवर करीब 50 मीटर तक गाड़ी को बोनट पर लेटे किसान के साथ आगे बढ़ा। इसी बीच हाथ में काले झंडे लिए किसानों ने गाड़ी का पिछला शीशा तोड़ दिया।

शिलान्यास पट्ट पर फेंकी थी काली स्याही
कुरुक्षेत्र के खुर्दी गांव में 16 दिसंबर 2020 को कुछ परियोजनाओं की आधारशिला रखने और सामुदायिक केंद्र का उद्घाटन करने के दौरान भी किसानों ने विरोध किया था। तब कृषि कानूनों को रद्द नहीं करने से नाराज किसानों ने केंद्र के खिलाफ नारे लगाए थे और सैनी के पहुंचने से पहले शिलापट्टी पर काली स्यागी फेंक दी थी।

कुरुक्षेत्र में सांसद-विधायक की गाड़ी के तोड़े थे शीशे
24 सितंबर 2020 को कुरुक्षेत्र में सैनी समाज भवन में ओबीसी मोर्चा भाजपा की मीटिंग का विरोध करने पहुंचे किसानों ने सैनी और थानेसर विधायक सुभाष सुधा की गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए थे। इस मामले में आदर्श थाना कुरुक्षेत्र में 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। तोड़फोड़ मामले में हिरासत में लिए गए 24 लोगों को जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

किसानों ने विरोध किया तो कार्यक्रम हुआ रद्द
4 अक्टूबर 2021 को किसानों ने रादौर में सांसद नायब सैनी का विरोध किया। किसानों के विरोध के कारण सांसद को अपना रादौर का कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था।

खबरें और भी हैं...