पशुओं के साथ सचिवालय के बाहर धरने पर परिवार:महिला का ताऊ-चाचा से जमीन को लेकर तकरार में पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप; सचिवालय के बाहर बांधे पशु

करनाल8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पशुओ के साथ सचिवालय के बाहर धरना पर बैठा गगसीना गांव का परिवार। - Dainik Bhaskar
पशुओ के साथ सचिवालय के बाहर धरना पर बैठा गगसीना गांव का परिवार।

हरियाणा के जिले करनाल के न्याय की गुहार को लेकर एक परिवार पशुओं के साथ सचिवालय पहुंच गया। उन्होंने सचिवालय के बाहर तीनों पशुओं को बांधकर प्रशासन व सरकार से इंसाफ मांगा। धरने पर बैठे इस परिवार का अपने कुनबे के साथ संपत्ति को लेकर तकरार चला हुआ है। आरोप है कि इस मामले में शिकायत के बावजूद मूनक थाना कोई कार्रवाई नहीं कर रहा। ऐसे में महिला अपनी मां, पति, बेटी और घर के पशुओं को भी लेकर धरने लगाने पहुंच गई।

खाने-पीने व बनाने के लिए बर्तन भी लाए साथ।
खाने-पीने व बनाने के लिए बर्तन भी लाए साथ।

गगसीना गांव की मंजू ने बताया कि उसके चाचा-ताऊ उसके पिता के हिस्से की जमीन पर उन्हें खेती करने से रोकते हैं। उसके हिस्से में साढ़े 3 एकड़ जमीन है। उसके 2 भाई थे, दोनों की मौत हो चुकी है। उसके पिता को कैंसर था। वर्ष 2014 में पिता ने जमीन उसके नाम करवा दी। 2016 में पिता की मौत हो गई जिसके बाद वे जमीन पर खेती करने लगे मगर चाचा-ताऊ उन्हें खेती करने से रोकते हैं। खेतों में जाने पर मारपीट करते हैं। उसकी गाड़ी भी तोड़ दी। खेत से सामान उठा लिया। उसने पुलिस से कई बार गुहार लगाई मगर सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में वह अपने परिवार के साथ न्याय की गुहार लेकर सचिवालय पहुंच गई। साथ में बर्तन और पशु भी ले आए। जब तक न्याय नहीं मिलता तब तक वह यहीं रहकर धरना देंगे।

सचिवालय के बाहर बंधे हुए पशु।
सचिवालय के बाहर बंधे हुए पशु।

मूनक थाना नहीं करता कोई कार्रवाई
मंजू के पति सुरेश कुमार ने बताया कि वह पूरे परिवार के साथ मिनी सचिवालय के सामने बैठे हैं। मूनक थाने के एसएचओ ने उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की क्योंकि वह दूसरी पार्टी से मिला हुआ है। एसएचओ ने एसपी के आदेश भी नहीं माने। मंगलवार को ताऊ-चाचा ने उन पर खेत में फिर हमला किया इसलिए वह यहां आकर धरना देने को मजबूर हो गए।

खबरें और भी हैं...