पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • Pulkit 99.6 In Commerce, Sharandeep Kaur And Anvi 98.2 In Arts, Sanampreet 97.6 In Medical, Nidhi In Non Medical Topped The District With 97.4% Marks.

सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट:कॉमर्स में पुलकित 99.6, आर्ट्स में शरणदीप कौर व अनवी 98.2, मेडिकल में सनमप्रीत 97.6, नॉन मेडिकल में निधि 97.4% अंकों के साथ जिले में अव्वल

करनालएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल. मोंटफोर्ट वर्ल्ड स्कूल के विद्यार्थी परीक्षा परिणाम के बाद खुशी जाहिर करते हुए। - Dainik Bhaskar
करनाल. मोंटफोर्ट वर्ल्ड स्कूल के विद्यार्थी परीक्षा परिणाम के बाद खुशी जाहिर करते हुए।
  • करनाल जिले का परिणाम 90 प्रतिशत रहा, पिछले साल 89 प्रतिशत रहा था, एक प्रतिशत हुआ सुधार
  • 120 स्कूलों के 6 हजार 415 विद्यार्थियों ने दी परीक्षा, 5753 पास हुए

केंद्रीय माध्यमिक विद्यालय शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सोमवार को कक्षा बारहवीं के नतीजे घोषित कर दिए। जिला का परीक्षा परिणाम 90 प्रतिशत रहा। पिछले साल 89 प्रतिशत था। इस बार रिजल्ट में एक प्रतिशत सुधार हुआ है। 15 फरवरी से बारहवीं कर बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हुई, जिले के 120 स्कूलों के 6 हजार 415 विद्यार्थियों ने 19 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा दी, 5753 विद्यार्थी पास हुए।

पिछले साल रिजल्ट 2 मई को आया था। लेकिन इस वर्ष कोरोना के कारण जुलाई में परिणाम आया। विद्यार्थी उमंग एप के जरिए अपने नतीजे चेक कर सकते हैं। मार्कशीट डिजिटल लॉकर में मिलेगी।  

जिले के रेगुलर स्टडी करने वाले विद्यार्थी विभिन्न संकाय में टॉप रहे हैं। बोर्ड की परीक्षाओं के बीच में कोरोना महामारी आने से परीक्षाओं को स्थगित करना पड़ा। लेकिन कोरोना महामारी के चलते विद्यार्थियों की सुरक्षा को देखते हुए बोर्ड की ओर से विद्यार्थियों को पिछले परीक्षाओं के अंक के आधार पर बचे हुए विषय में विद्यार्थियों को अंक दिए गए। यदि विद्यार्थी को असेसमेंट अंक कम लगते हैं तो बोर्ड की ओर से स्थिति सही होने पर इन विषयों की परीक्षाएं  वैकल्पिक सुधार के लिए आयोजित कराई जाएंगी।

एमबीबीएस पास कर कॉर्डियोलॉजिस्ट बनना सपना: सनमप्रीत सिंह
विवेकानंद विद्या निकेतन असंध के सनमप्रीत सिंह ने बताया कि उसने बारहवीं मेडिकल की परीक्षा में 97.6 प्रतिशत अंक प्राप्त करके पहला स्थान पाया। इसके लिए प्रतिदिन 12 घंटे पढ़ाई की। इसी के साथ उसने मोबाइल फोन का प्रयोग बिल्कुल छोड़ दिया। वह स्कूल में ही नीट की तैयारी करता था। उसका लक्ष्य कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर बनने का है। उसे अपने माता-पिता और स्कूल के अध्यापकों से प्रेरणा मिली है। आजकल लोगों में हॉर्ट की प्रॉब्लम ज्यादा है। लोगों की सेवा के लिए वह कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर बनना चाहते हैं।

शेडयूल बना तैयारी की, कमजोर सब्जेक्ट पर दिया ज्यादा ध्यान
प्रताप पब्लिक स्कूल सेक्टर-6 की छात्रा आकांक्षा मेडिकल में 96.8 अंक लेकर जिले में दूसरे स्थान पर रही। आकांक्षा ने बताया कि शेड्यूल बनाकर 6 से 7 घंटे परीक्षाओं की तैयारी की। कमजोर सब्जेक्ट को ज्यादा समय देकर अपने सभी विषयों को मजबूत किया।
लक्ष्य : नीट की तैयारी के बाद डॉक्टर

परीक्षा से पहले बीमार हुई, पर मेहनत में कमी नहीं आई 
सेंट थेरेसा कॉन्वेंट स्कूल के छात्रा अनवी गाेयल ने आर्ट्स में 98.2 अंक प्राप्त कर टॉप रही। अनवी ने बताया कि वे परीक्षा से पहले ही बीमार हो गई थी। लेकिन बीमार होने के बावजूद भी उसने अपना हौसला नहीं छोड़ा। परीक्षा के लिए मेहनत कर अच्छे अंक प्राप्त किए हैं। यदि मेहनत करें ताे उसका परिणाम भी मिलता है। लक्ष्य  : आईपीएस ऑफिसर

खबरें और भी हैं...