पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेड:सहारनपुर में अवैध अल्ट्रासाउंड सेंटर पर रेड, दंपती सहित चार को पुलिस के हवाले किया

करनालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल. स्वास्थ्य विभाग करनाल की पीएनडीटी टीम ने सहारनपुर में अवैध लिंग जांच करने वाले अल्ट्रासाउंड सेंटर पर पकड़े आरोपी। - Dainik Bhaskar
करनाल. स्वास्थ्य विभाग करनाल की पीएनडीटी टीम ने सहारनपुर में अवैध लिंग जांच करने वाले अल्ट्रासाउंड सेंटर पर पकड़े आरोपी।

स्वास्थ्य विभाग करनाल की पीएनडीटी टीम ने उत्तरप्रदेश के सहारनपुर में अवैध रूप से लिंग जांच करने वाले अल्ट्रासाउंड सेंटर पर रेड कर चार लोगों को पुलिस के हवाले किया। मौके पर एक जांच मशीन और दो कंप्यूटर बरामद कर कब्जे में लिए गए।

पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डॉ. नरेश करड़वाल ने बताया कि उन्हें सहारनपुर की शिवालिक विहार कॉलोनी में एक घर के अंदर अवैध अल्ट्रासाउंड केंद्र के संचालन की सूचना मिली थी, जिसमें कहा गया था कि यहां गर्भ में पल रहे बच्चे की लिंग की जांच के लिए 10 से 20 हजार रुपए लिए जाते हैं।

पुख्ता सूचना के बाद सिविल सर्जन करनाल डॉ. योगेश शर्मा के आदेशानुसार एक टीम का गठन किया गया, जिसमें डॉ. नरेश करड़वाल, डॉ. संजीव चांदना व मनिंदर कौर, प्रोजेक्टनिष्ट सुलेख कुमार, लिपिक विक्रम सिंह और स्टेनो टाइपिस्ट राहुल को शामिल कर यूपी के सहारनपुर पहुंचे।

डॉ. नरेश ने बताया कि एक नकली गर्भवती महिला को दलाल के जरिए वहां भेजकर अल्ट्रासाउंड से उसकी जांच करवाई। गर्भवती महिला को उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग लड़का बताया गया। इस काम के लिए 20 हजार रुपए में सौदा तय किया गया था।

टीम की ओर से दलाल जमीला के पास 500-500 रुपए के पांच नोट यानि अढाई हजार रुपए पाए गए थे, जो मौके पर ही प्राप्त कर लिए और लिस्ट द्वारा नोटों का मिलान सही पाया गया, यह वही नोट थे, जो नकली गर्भवती महिला को दिए गए थे।

सहारनपुर की टीम का भी लिया सहयोग

इस रेड में सहारनपुर जिले की टीम का भी सहयोग लिया गया और दोनों टीमों ने मिलकर गर्भवती महिला का पीछा किया। रेड कर दलाल जमीला, अल्ट्रासाउंड करने वाले व्यक्ति प्रदीप, जसबीर व उसकी पत्नी रीना (जिनके घर में अल्ट्रासाउंड किया गया) को रंगे हाथों पकड़कर पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन काे टीम ने अपने कब्जे में ले लिया।

पकड़े गए सभी व्यक्तियों को थाना सदर बाजार पुलिस जिला सहारनपुर को सौंप दिया गया। रेड से संबंधित सभी मूल दस्तावेज व बयान जिला सहारनपुर की पीएनडीटी टीम को सौंप दिए, ताकि उक्त चारों आरोपियों के विरूद्ध उक्त एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करवाई जा सके।

खबरें और भी हैं...