पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • Schools Will Open For Classes IX To XII From July 16, Children Will Be Monitored With Ribbons, Masks, Social Distancing From The House

कोरोना महामारी:16 जुलाई से नौंवी से बारहवीं कक्षाओं के खुलेंगे स्कूल, बच्चों पर रिबन, मास्क, हाउस से रखी जाएगी सोशल डिस्टेसिंग पर नजर

करनाल17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विद्यार्थियों के लिए इस बार मेडिकल सर्टिफिकेट जरूरी नहीं, माता-पिता का सहमति पत्र होगा अनिवार्य

करनाल में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में 660 बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिले थे। विद्यार्थियों की कोरोना पॉजिटिव दर 7.93 रही थी। दूसरी लहर के बाद एक बार फिर से 16 जुलाई से नौवीं से बारहवीं कक्षा के लिए स्कूल खुलने जा रहे हैं। विद्यार्थियों को कोरोना से सुरक्षा देने के लिए शिक्षा विभाग 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को रिबन, मास्क, हाउस व सेक्शन अनुसार स्कूलों में बुलाएगा।

एक बैंच पर एक बच्चे को बिठाया जाएगा, कोई भी विद्यार्थी एक दूसरे से पानी व खाने का सामान शेयर नहीं करेगा। स्कूलों में 50 प्रतिशत ही बसों में बच्चे आएंगे। जबकि कोरोना महामारी की दूसरी लहर में बच्चों का कोरोना पॉजिटिव आना मुख्य कारण स्कूलों में विद्यार्थियों को रिबन लगाने को लेकर ध्यान नहीं दिया गया।

रिबन, सेक्शन व हाउस न होने से ये नहीं पता चलता था कि काैन सा विद्यार्थी कौन सी कक्षा का है। बच्चे स्कूलों में कहीं भी एक साथ इकट्ठे हो जाते थे। रिबन, हाउस, मास्क के रंग अनुसार विद्यार्थी की कक्षा का पता चल जाता है। बच्चों को कक्षा में बिठाने व उनकी संख्या व एक दूसरे से चीजें शेयर न करने पर ध्यान नहीं दिया गया। स्कूलों खोलने को लेकर इस बार शिक्षा विभाग ने मेडिकल सर्टिफिकेट देना अनिवार्य नहीं किया है। जबकि पिछली बार मेडिकल सर्टिफिकेट भी अनिवार्य किया गया था। इस बार केवल विद्यार्थियों से माता-पिता का सहमति पत्र मांगा गया है।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में 660 बच्चे कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे

स्कूल टीचरों को दिखाना होगा कोरोना वैक्सीन का सर्टिफिकेट
प्रताप पब्लिक स्कूल सेक्टर-6 स्कूल की प्रिंसिपल डॉ. पूजा वालिया ने बताया कि स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर टीचरों को कोरोना वैक्सीन लगाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। टीचरों को स्कूल में आने से पहले कोरोना वैक्सीन का सर्टिफिकेट साथ में लेकर आना होगा। जिससे स्कूलों में बच्चों को कोरोना सुरक्षित माहौल दे सके।

अभिभावकों की सहमति के अनुसार ही खोला जाएगा स्कूल

सेंट थेरेसा कॉन्वेंट की प्रिंसिपल सिस्टर ऑफिलिया लॉबो ने बताया कि पहले स्कूलों के अभिभावकों की सहमति ली जाएगी। यदि अभिभावकों की ओर से सहमति कम आई तो स्कूल नहीं खोले जाएंगे। यदि अभिभावकों की इच्छा होगी तो कोरोना महामारी के पूरे नियमों की पालना कर स्कूल खोले जाएंगे। स्कूलों की ऑनलाइन कक्षाएं निरंतर ही चलती रहेंगी।

टीचरों को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद अभिभावकों को भेजी जा रही वीडियो

दयाल सिंह पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल सुषमा देवगन ने बताया कि टीचरों काे कोरोना वैक्सीन लग चुकी है। टीचरों को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद अभिभावकों को इसकी वीडियो भेजी जा रही है ताकि अभिभावक कोरोना वैक्सीन के प्रति जागरुक होकर कोरोना वैक्सीन लगवा सकें। स्कूलों की भी जिम्मेदारी बनती है कि बच्चों के साथ अभिभावकों को भी कोरोना के प्रति जागरुक किया जाए।

स्कूल खोलने से पहले मेडिकल सुविधाएं करें सुनिश्चित
अभिभावक एकता संघ के महासचिव नवीन अग्रवाल ने बताया कि स्कूल खुलने की सहमति में है। लेकिन सबसे पहले जिला प्रशासन मेडिकल सुविधाएं सुनिश्चित करे कि तीसरी लहर से सुरक्षा के लिए संसाधन हैं या नहीं। इसके साथ ही स्कूलों में सोशल डिस्टेसिंग, सेनेटाइज की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए। स्कूलों में सभी टीचरों को कोरोना वैक्सीन लगी होनी चाहिए।

स्कूलों की ओर से पूरी तैयारियां हैं, इसके लिए स्कूल मुखियाओं की मीटिंग पहले ले चुके हैं। स्कूलों द्वारा कोरोना के सभी नियमों की पालना को लेकर स्कूल स्टॉफ की मीटिंग हो रही है। राजपाल चौधरी, जिला शिक्षा अधिकारी, करनाल।

स्कूल ओपन करने पूरी तैयारियां हैं। सभी स्कूलों की ओर से स्टॉफ के साथ मीटिंग कर कोरोना महामारी के सभी नियम सख्ती से फाॅलाे करने के निर्देश प्रिंसिपल की ओर से दिए जा रहेे हैं। -डॉ. राजन लांबा, सहोदय स्कूल कांप्लेक्स अध्यक्ष, करनाल।

खबरें और भी हैं...