करनाल में भाजपा नेताओं को रोक रहे किसानों पर लाठीचार्ज:बसताड़ा टोल पर पुलिस की लाठियों से फूटे कई के सिर; विरोध में किसानों ने प्रदेशभर में घंटों बंद रखे हाईवे, 17 प्रदर्शनकारियों की रिहाई के बाद हटे सड़कों से

करनालएक वर्ष पहले
बसताड़ा टोल पर किसानों पर हुए लाठीचार्ज में घायल किसान।

करनाल में शनिवार को CM मनोहर लाल की अगुवाई में आयोजित प्रदेश भाजपा की संगठनात्मक मीटिंग में जा रहे पार्टी नेताओं को रोकने की कोशिश कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। किसानों ने नई दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे पर करनाल में घरौंडा के पास बसताड़ा टोल प्लाजा की दो-दो क्रॉसिंग को छोड़कर बाकी लेन बंद कर दीं। मौके पर मौजूद पुलिस अफसरों ने किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद पुलिस की ओर से किए गए लाठीचार्ज में कई किसानों के सिर फूट गए और खून बहने लगा। टोल पर धरना लगाकर बैठे किसान पुलिस की लाठियों से बचने के लिए खेतों में भागे। इस लाठीचार्ज की खबर प्रदेशभर में आग की तरह फैली और नाराज किसानों ने हिसार, सिरसा, फतेहाबाद, भिवानी, जींद, रोहतक, अम्बाला, करनाल, पानीपत व सोनीपत समेत तमाम जिलों में नेशनल हाईवे और टोल प्लाजा पर जाम लगा दिए।

नाराज किसानों का प्रदर्शन कई घंटे तक चलता रहा। अंत में पुलिस द्वारा बसताड़ा टोल प्लाजा से गिरफ्तार किए गए सभी 17 किसानों को रिहा किए जाने के बाद, संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर शनिवार शाम 7.30 बजे से किसानों ने नेशनल हाईवे और टोल प्लाजा से जाम हटाने शुरू कर दिए। वहीं लाठीचार्ज की जानकारी मिलने के बाद बसताड़ा टोल प्लाजा पर पहुंचे भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चदूनी ने भी हरियाणा और दूसरे राज्यों में लगे जाम खोलने की अपील की।

करनाल में हुई भाजपा संगठन की बैठक का विरोध

शनिवार को करनाल शहर में भाजपा की संगठनात्मक बैठक थी। इस कारण करनाल पुलिस और प्रशासन ने शहर में एंट्री के सभी प्वॉइंट बंद कर रखे हैं। इसलिए किसान मीटिंग और भाजपा नेताओं का विरोध करने के लिए शहर के अंदर नहीं घुस पाए। किसानों ने शहर में कूच करना चाहा, लेकिन पुलिस ने उन्हें घुसने ही नहीं दिया। इसके बाद किसानों ने नेताओं को वहीं टोल पर रोकने की तैयारी कर ली। इस दौरान किसानों को रोकते हुए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

डीसी बोले- किसानों को आराम से प्रदर्शन करना चाहिए था
करनाल के डीसी निशांत यादव ने बताया कि किसानों ने सुबह एक बार करनाल की तरफ बढ़ना चाहा था। उन्होंने कुछ देर के लिए नेशनल हाईवे को भी जाम कर दिया था। किसानों से बात करने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट और पुलिस के अधिकारी गए थे, क्योंकि लोगों को हाईवे जाम होने से परेशानी हो रही थी। किसानों को आराम से प्रदर्शन करना चाहिए था।

डीसी के अनुसार, जब किसान नहीं माने तो पुलिस को हल्का बल प्रयोग किया। इसमें कुछ पुलिसकर्मियों और किसानों को चोटें आईं। किसानों से अपील है कि वे आराम से बैठकर विरोध करें। हाईवे पर यातायात में बाधा डालने वालों को सहन नहीं किया जाएगा।

करनाल में भाजपा की विशेष बैठक जारी:एंट्री बंद होने से विरोध करने नहीं पहुंच पाए किसान; CM कर रहे मीटिंग की अध्यक्षता, सांसद-विधायक और जिलाध्यक्ष मौजूद

पुलिस लाठीचार्ज में घायल किसान।
पुलिस लाठीचार्ज में घायल किसान।

चढ़ूनी का आह्वान- जाम कर दो सड़कें और टोल
किसानों पर लाठीचार्ज की खबर मिलते ही गुस्साए भाकियू प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा कि पुलिस ने करनाल में किसानों का प्रवेश बंद कर दिया। बसताड़ा टोल पर किसानों पर लाठीचार्ज करके उन्हें घायल कर दिया है, जो सरासर गलत है। उनकी किसानों से अपील है कि लाठीचार्ज के विरोध में वे जहां-जहां भी संभव हो, सड़कों पर जाम लगा दें और अगले आदेश तक जाम लगाकर रखें। चढ़ूनी ने कहा कि टोल पर भी जाम लगा दिया जाए।

किसानों ने जाम किए हाईवे
चढ़ूनी के आह्वान के बाद हिसार-दिल्ली हाईवे पर रामायण टोल पर धरना दे रहे किसानों ने वहां जाम लगा दिया। इससे हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई। मौके की नजाकत को भांपते हुए पुलिस ने वाहनों को खरड़ और रामायण की तरफ डाइवर्ट करना शुरू कर दिया। सिरसा में भी किसानों ने बरनाला रोड पर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला और हरियाणा के बिजली व जेल मंत्री रणजीत चौटाला के घर के पास स्टेट हाईवे पर जाम लगा दिया।

अम्बाला में भी किसानों ने अमृतसर-दिल्ली नेशनल हाईवे जाम कर दिया जिससे वहां दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। आनन-फानन में पुलिस को रूट डायवर्ट करना पड़ा। करनाल जिले में जींद चौक, बसताड़ा टोल, निसिंग और जलमाना गांव में जाम लगा दिया गया। रोहतक में मकड़ौली टोल पर किसानों ने जाम लगाया तो नरवाना में बद्दोवाल टोल प्लाजा भी किसानों ने जाम कर दिया। कैथल जिले के NH-152 पर तितरम मोड़, कैथल से चीका मार्ग पर भागल गांव, पटियाला मार्ग पर हांसी-बुटाना नहर पर चीका में किसानों ने जाम लगाया। फतेहाबाद जिले में ढाणी गोपाल चौक और नेशनल हाईवे-9 बाइपास पर किसानों ने रोड जाम कर दिया। जींद-करनाल हाईवे के अलावा अलेवा में भी किसान सड़क पर बैठ गए। भिवानी जिले में कितलाना टोल पर जाम लगा दिया गया। सिरसा में भी रोड जाम कर दिए गए। रतिया में बुढलाडा रोड पर किसानों ने धरना लगा दिया। पानीपत-दिल्ली हाईवे के बीच मुरथल में भिगान टोल प्लाजा भी किसानों ने बंद कर दिया। बाद में भिगान टोल को चालू करवाने के लिए सोनीपत के डीसी ने धारा-144 लगा दी।

पुलिस लाठीचार्ज से हरियाणा में किसान आगबबूला, देखिए तस्वीरें:करनाल में बसताड़ा टोल प्लाजा पर बहा खून, चढ़ूनी के आह्वान पर प्रदेशभर में हाईवे और सड़कों पर लगाया जा रहा जाम

नेताओं को दिखाए काले झंडे
कृषि कानून के विरोध में किसान लगातार भाजपा नेताओं के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। शनिवार सुबह किसानों ने बसताड़ा टोल प्लाजा पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ का विरोध किया और नारेबाजी करते हुए उन्हें काले झंडे दिखाए। पुलिस ने भाजपा की मीटिंग और उसमें CM मनोहर लाल के आने की वजह से करनाल जिले में नेशनल हाईवे पर ही किसानों को रोक लिया। शहर में जगह-जगह नाकेबंदी कर दी गई। 30 से ज्यादा जगहों पर नाके लगाए जाने से लोगों को आने-जाने में काफी परेशानी हुई।

पुलिस लाठीचार्ज में किसान के हाथ में चोट आई।
पुलिस लाठीचार्ज में किसान के हाथ में चोट आई।

बाइक भी नहीं जाने दी

करनाल शहर में ढांड की तरफ से आने वाले वाहनों को काछवा पुल पर शहर से डेढ़ किलोमीटर पहले ही रोक दिय गया। कैथल की बसों को वाया सीतामाई तरावड़ी होते हुए भेजा गया। चिड़ाव मोड़ से आगे तक असंध-कैथल बसों को आने दिया गया। बाइकों को भी अंदर नहीं आने दिया गया।

पुलिस लाठीचार्ज में घायल किसान।
पुलिस लाठीचार्ज में घायल किसान।

बैठक में ये सभी नेता मौजूद
इस बीच करनाल शहर के प्रेम प्लाजा में चल रही भाजपा की संगठनात्मक बैठक में पहुंचे CM मनोहर लाल का फूल-गुलदस्तों के साथ मेयर रेणुबाला गुप्ता ने स्वागत किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया। फिर वंदे मातरम के गान के साथ बैठक शुरू हुई।

मीटिंग में सीएम, मंत्री कंवर पाल गुर्जर, मंत्री संदीप सिंह, मंत्री कमलेश ढांडा, प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़, मंत्री मूल चंद शर्मा, मंत्री डॉ. बनवारी लाल, विधायक प्रवीन डागर, विधायक दीपक मंगला, विधायक सत्यप्रकाश, विधायक सुधीर तंवर, सांसद नायब सिंह सैनी, सांसद संजय भाटिया, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, प्रदेश महामंत्री वेदपाल एडवोकेट, प्रदेश महामंत्री पवन सैनी, विधायक घनश्याम अरोड़ा, विधायक लीला राम गुर्जर, विधायक रामकुमार कश्यप, विधायक हरविंदर कल्याण, विधायक प्रमोद विज, विधायक विनोद भ्याना, विधायक रणबीर गंगवा, विधायक दूडाराम बिश्नोई, विधायक लक्ष्मण नापा, पूर्व विधायक भगवान दास कबीरपंथी, मेयर रेणुबाला गुप्ता पहुंचे।

खबरें और भी हैं...