एडमिशन:कॉलेजों में खाली सीटों को भरने को चलेगी फिजिकल ओपन काउंसिलिंग की प्रक्रिया

करनाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल. राजकीय महिला महाविद्यालय में फिजिकल ओपन काउंसिलिंग में मेरिट लिस्ट का इंतजार करती छात्राएं। - Dainik Bhaskar
करनाल. राजकीय महिला महाविद्यालय में फिजिकल ओपन काउंसिलिंग में मेरिट लिस्ट का इंतजार करती छात्राएं।
  • विद्यार्थी सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन ठीक कर काउंसिलिंग में हो रहे शामिल

कॉलेजों में यूजी कोर्स के नए सत्र की खाली सीटों को भरने के लिए फिजिकल ओपन काउंसिलिंग की प्रक्रिया प्रतिदिन चलेगी। कॉलेज में दूसरी मेरिट लिस्ट के बाद 5 हजार 315 सीटें खाली रह गई थी। जिसका कारण विद्यार्थियों की ओर से पहली पसंद राजकीय काॅलेज रहा। जिसके कारण विद्यार्थियों ने दूसरी मेरिट लिस्ट जारी होने तक एडमिशन का इंतजार किया।

लेकिन अब विद्यार्थी कॉलेजों की खाली सीटों पर रजिस्ट्रेशन फाॅर्म में एडेड कर एडमिशन ले सकते हैं। उच्चतर शिक्षा विभाग की ओर से पोर्टल ओपन कर रखा है। जो विद्यार्थी ने कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं व रजिस्ट्रेशन नहीं किया वह भी ऑनलाइन आवेदन कर ओपन काउंसलिंग मेरिट के आधार पर दाखिला प्राप्त कर सकते है।

ओपन काउंसिलिंग में शामिल हो रहे विद्यार्थी

^कॉलेजों में एडमिशन के लिए फिजिकल ओपन काउंसिलिंग की प्रक्रिया चल रही है। विद्यार्थी ऑनलाइन आवेदन में अपनी गलतियों को ठीक कर फिजिकल ओपन काउंसिलिंग में शामिल हो रहे है। डॉ. अनुराधा, प्रिंसिपल, राजकीय महिला महाविद्यालय करनाल।

विद्यार्थियों ने पहले ऑनलाइन फॉर्म भरने में सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन भरे गलत, मेरिट में इसलिए नहीं आया नाम

विद्यार्थियों ने पहले ऑनलाइन फॉर्म भरने में सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन गलत भरे। जिसे विद्यार्थी का नाम मेरिट लिस्ट में नहीं आया। जिसका कारण विद्यार्थियों द्वारा इंटरनेट कैफे से सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन भरवाना है। सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन की कम सीटों पर विद्यार्थियों ने ज्यादा आवेदन किए। जबकि अन्य सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन खाली रहे। बीए कोर्स में 51 सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन हैं, लेकिन विद्यार्थियों को इसकी जानकारी नहीं थी।

2017 से कॉलेजों में ऑनलाइन एडमिशन की चल रही प्रक्रिया, विद्यार्थियों के पास नहीं पूरी जानकारी

2017 से कॉलेजों में ऑनलाइन एडमिशन की प्रक्रिया चल रही है। लेकिन विद्यार्थी के पास ऑनलाइन एडमिशन फॉर्म भरने की पूरी जानकारी नहीं होती है। क्योंकि विद्यार्थी 12वीं पास कर स्कूलों से आता है। ऐसे में उच्चतर शिक्षा विभाग की ओर से भी कॉलेज के विद्यार्थियों को आसानी से एडमिशन प्राप्त हो सके इसके लिए विभाग की ओर से कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जा रहा है।

हर साल विद्यार्थियों को कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए वेंटिग लिस्ट तक का इंतजार करना पड़ता है। जिसका कारण ऑनलाइन एडमिशन की पूर्ण जानकारी विद्यार्थियों को नहीं होती है।

खबरें और भी हैं...