बसताड़ा टोल पर हंगामा:बैरिकेड के पत्थर उठवाने के लिए प्रबंधन ने बुलाई हाइड्रा मशीन, किसानों ने विरोध किया तो लौटी

करनाल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैरिकेड हटाने आई मशीन को वापस भेजते हुए किसान। - Dainik Bhaskar
बैरिकेड हटाने आई मशीन को वापस भेजते हुए किसान।

हरियाणा के करनाल जिले में बसताड़ा टोल प्लाजा पर किसानों ने जमकर हंगामा किया। बैरिकेड हटाने आए हाइड्रा को वापस लौटा दिया। इससे आगे बढ़ते हुए टोल प्लाजा के केबिन में घुसकर रोष जताया और टोल प्लाजा प्रबंधन को चेतावनी दी कि जब तक आंदोलन खत्म नहीं होता और सभी ट्रॉली आंदोलन से नहीं लौटेंगी, तब तक टोल को नहीं खोला जाएगा। यदि पहले टोल खोलने की कोशिश की तो वे आंदोलन करेंगे।

बता दें कि पिछले 11 महीने से बसताड़ा टोल बंद है। बैरिकेड लगाए हुए हैं। सभी वाहन बिना टोल दिए निकल रहे हैं। सुबह कृषि कानून रद्द होने का सरकार ने ऐलान किया तो दोपहर के करीब एक बजे टोल प्लाजा प्रबंध ने हाइड्रा बुलाकर बैरिकेड हटाने शुरू कर दिए। जब किसानों ने ऐसा होते देखा तो विरोध शुरू किया और हाइड्रा को ऐसा करने से रोक दिया। किसानों के विरोध को देखते हुए हाइड्रा का चालक अपनी गाड़ी लेकर वहां से चला गया।

आंदोलन के दौरान मौजूद किसान।
आंदोलन के दौरान मौजूद किसान।

भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान जगदीप ओलख ने कहा कि अभी कोई फैसला नहीं हुआ। कल हमारे नेता बैठेंगे। हमारी अन्य मांगों पर भी चर्चा बाकी है। जब तक हमारे नेताओं की कॉल नहीं आएगी, तब तक टोल नहीं खुलने देंगे। फैसले के बाद घोषणा करेंगे, उसके बाद ही टोल चलेगा।

खबरें और भी हैं...