सरपंच ने किया सुसाइड:SC/ST के तहत दर्ज केस की वजह से परेशान था प्रगट सिंह, 2 दिन पहले निगला जहर, उपचार के दौरान मौत

करनाल18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पोस्टमार्टम के बाद शव ले जाते हुए परिजन। - Dainik Bhaskar
पोस्टमार्टम के बाद शव ले जाते हुए परिजन।

हरियाणा के करनाल जिले के अस्पताल में जींद के गांव खरक गादियां के सरपंच प्रतिनिधि की उपचार के दौरान मौत हो गई है। दो दिन पहले सरपंच प्रतिनिधि 35 वर्षीय प्रगट सिंह ने जहरीला पदार्थ निगल लिया था, लेकिन आज उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि गांव के व्यक्ति ने उस पर SC/ST एक्ट के तहत झूठ केस दर्ज करवाया था। इस सदमे में उसने सुसाइड किया है। जींद पुलिस परिजनों की शिकायत पर कार्रवाई कर रही है। शव का करनाल के कल्पना चावला अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाया गया और परिजनों को सौंप दिया गया।

शव ले जाने को पहुंची पुलिस।
शव ले जाने को पहुंची पुलिस।

दिलबाग ने बताया कि कुछ समय पहले गांव का वाल्मीकि जाति का एक शख्स शमशान में तांत्रिक क्रिया कर रहा था। गांव के लोग उसको रोकने के लिए वहां पहुंचे। सरपंच प्रतिनिधि होने के नाते प्रगट सिंह को बुलाया गया। प्रगट सिंह ने मौके पर पहुंचकर पुलिस बुला ली। पुलिस ने तांत्रिक के बयान पर गांव के 10 लोगों के खिलाफ SC/ST के तहत केस दर्ज किया। सरपंच प्रतिनिधि प्रगट सिंह की हाईकोर्ट से जमानत हो गई है। लेकिन इस घटना से प्रगट सिंह काफी परेशानी में चला गया। वह अकेला रहने लगा। पिछले डेढ़ महीने से किसी भी कार्यक्रम में नहीं जा रहा था।

उनके परिवार में इस दौरान चार शादी हुई। किसी को भी प्रगट सिंह ने अटैंड नहीं किया। दो दिन पहले अचानक उन्हें पता चला कि उसने जहरीला पदार्थ निगल लिया है। जो उसे अस्ताल लेकर आ रहे थे, उसने उन्हें कहा कि वह SC/ST के झूठे केस के कारण सुसाइड कर रहा है। उसकी मौत का जिम्मेदार केस दर्ज करवाने वाला वाल्मीकि समाज का व्यक्ति है। प्रगट अपने पिता का अकेला बेटा था। मृतक प्रगट के पास एक साल की एक लड़की है।

खबरें और भी हैं...