अन्‍नदाता परेशान:गेटपास में मिसमैच के कारण 15 महीने से अटके किसानों की धान के 15 लाख रुपए

निगदू10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

72 घंटे में धान की पेमेंट करने के प्रदेश सरकार के दावे हवा हवाई साबित हो रहे हैं। कस्बे की अनाजमंडी में किसानों द्वारा 2020 में बेची पीआर धान की पेमेंट अभी तक लटकी हुई। जिससे किसानों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान ओमप्रकाश कैरा व उपप्रधान देशराज आहूजा ने बताया कि किसानों द्वारा धान बेचे 15-16 महीने बीत गए हैं। लेकिन अभी तक उनकी पेमेंट नहीं आई है।

किसानों की पेमेंट को लेकर कई बार विभागों के कार्यालयों के चक्कर काट चुके हैं। इस समस्या को लेकर जिला उपायुक्त निशांत कुमार यादव से 2021 के गेहूं के सीजन में मिल थे। तब जिला उपायुक्त ने 15 दिन के अंदर पेमेंट हो जाने का आश्वासन दिया था। लेकिन वे आश्वासन भी पूरा नहीं हुआ।

ओमप्रकाश कैरा व देशराज आहूजा ने बताया कि 2020 में धान खरीद के पहले दिन मार्केट कमेटी में ऑनलाइन गेट पास नहीं कटे। जिसकी वजह से पोर्टल के तहत ऑफलाइन एनुअल गेट पास काटे गए। बाद में इसे मिसमैच का नाम दिया गया। मिसमैच का नाम दिए जाने के कारण अभी तक 15 लाख पेमेंट अटकी हुई है। पेमेंट के न मिलने से किसानों व आढ़तियों दोनों काफी दिक्कतें झेलनी पड़ रही है।

खबरें और भी हैं...