अवैध कब्जा:गुनियाना के बुजुर्ग दंपती 22 साल से जमीन का हिस्सा लेने के लिए काट रहे अधिकारियों के चक्कर

निसिंगएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भाई ने इनके हिस्से की खेती की जमीन व घर की जमीन पर किया अवैध कब्जा
  • जमीन व पक्का घर होने के बावजूद भी 11 साल से घास-फूंस की झोपड़ी में रहने को मजबूर बुजुर्ग दंपती, जब हिस्सा मांगते है तो करते हैं मारपीट

गांव गुनियाना के बुजुर्ग दंपती 22 साल से अपने हिस्से की जमीन लेने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं, लेकिन आज तक उन्हें न्याय नहीं मिल पाया। अपने हिस्से के खेत व पक्के मकान से निकाले जाने के बाद बुजुर्ग दंपती 11 साल से गांव के मंदिर में घास-फूंस की झोपड़ी में रहने को मजबूर हैं। इसी बात को लेकर गुरुवार को दोनों बुजुर्ग निसिंग की उपतहसील कार्यालय में नायब तहसीलदार रामकुमार को शिकायत देने के लिए पहुंचे। बुजुर्ग दंपती बदन सिंह व ओमपति ने बताया कि करीब 22 साल पहले बदन सिंह के भाई हिशम सिंह ने शातिराना तरीके से उसका अनपढ़ होने का फायदा उठाया और कागजातों पर अंगूठे लगवा लिए। बदन सिंह ने आरोप लगाते हुए बताया कि उनकी सारी जमीन का मुश्तर खाता था।

और जमीन की तकसीम नहीं हुई थी। इसी बात को लेकर हिशम सिंह व उसके परिवार ने उनकी अनपढ़ हाेने का फायदा उठाकर खेती की ढाई एकड़ जमीन व रिहायशी जमीन एक कनाल दो मरले पर कब्जा जमा लिया। वह जब भी अपनी जमीन मांगने की बात कहते हैं तो उनके मारपीट की जाती है। बदन सिंह व ओमपति ने बताया कि इस बात की शिकायत लेकर दो दशक से अधिकारियों व नेताओं के दफ्तरों के धक्के खा रहे, लेकिन आज तक न्याय नहीं मिला।

खबरें और भी हैं...