नमन:सर छोटूराम जयंती समाराेह में कुरुक्षेत्र पहुंचे सीएम, जाट समाज धर्मशाला के लिए 51 लाख की घोषणा

कुरुक्षेत्र9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुरुक्षेत्र | सर छोटूराम की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते सीएम। - Dainik Bhaskar
कुरुक्षेत्र | सर छोटूराम की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते सीएम।

जाट समाज की तरफ से कुरुक्षेत्र में करीब 5 साल बाद किसानों के मसीहा दीनबंधु सर छोटूराम का 142वीं जयंती समारोह मनाया गया। जाट धर्मशाला में इससे पहले 2 गुटों के विवाद के चलते औपचारिकता होती रही। 5 साल बाद सीएम मनोहरलाल भी कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने एक कहानी सुनाकर जाट समाज से इशारों में कहा कि वह उन्हें अपना लें, पैसों की कमी नहीं रहेगी। समारोह में पूर्व मंत्री विरेंद्र सिंह भी शामिल हुए। हालांकि जयंती 26 जनवरी को है, इस बार एक दिन पहले ही जयंती मनाई गई।

धन्ना भगत की मनाएगी सरकार जयंती : मुख्यमंत्री ने आमजन से धन्ना भगत के आदर्शों पर चलने का आह्वान किया। उन्होंने कहा धन्ना भगत महान विचारक थे। 21 अप्रैल को हर वर्ष धन्ना भगत की जयंती मनाई जाती है। इस बार धन्ना भगत की जयंती भी हरियाणा सरकार मनाएगी।

मनोहर लाल ने कहा कि दीनबंधु सर छोटूराम किसानों के हित की बात करते थे, हरियाणा सरकार भी किसानों के हित की बात करती है। प्रदेश की डेढ़ लाख एकड़ भूमि में जल भराव की समस्या है। इस भूमि को ठीक करने के लिए 1100 करोड़ रुपये का बजट अगले वर्ष तक खर्च किया जाएगा। इस भूमि को कृषि योग्य बनाया जाएगा।

5 साल बाद समारोह :
बता दें कि वैसे ताे हर बार जाट धर्मशाला में सर छोटूराम जयंती धूमधाम से मनाई जाती थी, लेकिन करीब 5 साल बाद इस बार बड़ा कार्यक्रम हुआ। जाट समाज में प्रधानी को लेकर 2 गुटों में विवाद चल रहा था। िजसके चलते 2018 में प्रशासक नियुक्त किया था। इससे पहले सन 2017 में जयंती मनाई थी।

तब सीएम मनोहरलाल भी शामिल हुए थे। वहीं जाट धर्मशाला में पहुंचने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार जताया। माैके पर सांसद नायब सिंह सैनी, विधायक सुभाष सुधा, जाट धर्मशाला के प्रधान पूर्ण सिंह बड़शामी, पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह और डीसी, एसपी व कई प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

जाट धर्मशाला के लिए की कई घोषणाएं...
मुख्यमंत्री ने मंच से जाट धर्मशाला के लिए कई घोषणाएं की। सीएम ने 51 लाख रुपए अनुदान देने की घोषणा की। साथ ही जाट सभा के स्कूल में भी 1.80 लाख रुपए तक के आय वाले परिवारों को सरकार की योजना का लाभ देने की घोषणा की। वहीं जाट धर्मशाला को छात्रावास बनाने के लिए केडीबी या शहरी विकास प्राधिकरण की तरफ से जमीन की व्यवस्था कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...