किसान को प्रतिएकड़ 1 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी जायेगी:फसल अवशेष प्रबंधन को लेकर जीपीएस लोकेशन वाली फोटो का रखना होगा किसानों को रिकॉर्ड

कुरुक्षेत्रएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जो किसान धान की पराली के बंडल स्ट्रा बेलर की मदद से बनावेगा, उस किसान को प्रति एकड़ 1 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी जाएगी, लेकिन इसके लिए किसानों को पोर्टल पर पंजीकरण भी कराना होगा। सबूत भी दिखाना होगा कि उन्होंने बंडल बनाए हैं। डीडीए डॉ. प्रदीप मील ने कहा कि इस वर्ष जो किसान गैर-बासमती और मुच्छल किस्म के धान के खेत में हैप्पी सीडर, सुपर सीडर, रिवर्सिबल प्लो, जीरो ड्रिल द्वारा पराली अवशेषों को भूमि में मिक्स करेगा, उसे भी 1 हजार रुपए प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

जो किसान मशीनों द्वारा पराली अवशेषों को मिट्टी में मिलाने का कार्य करेंगे, वह किसान प्रत्येक एकड़ में पराली का प्रबंधन करते हुए जीपीएस लोकेशन वाली तस्वीरों का रिकॉर्ड अपने पास रखेंगे। पोर्टल पर पंजीकृत किसानों द्वारा किए गए पराली प्रबंधन के कार्य का सत्यापन ग्राम स्तरीय कमेटी द्वारा किया जाएगा। इसके पश्चात डीसी की अध्यक्षता वाली जिला स्तरीय कमेटी के अनुमोदन के बाद पात्र किसानों को प्रोत्साहन राशि का लाभ दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसान विभागीय पोर्टल एग्रीहरियाणा.जीओवी.इन पर पंजीकरण करवाए।

खबरें और भी हैं...