स्वामी ज्ञानानंद ने कहा:गीता एक ऐसा अलौकिक प्रकाश पुंज है, जो काल, देश और सीमाओं से परे है

कुरुक्षेत्र16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कनाडा में हुए अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में मौजूद अतिथि। - Dainik Bhaskar
कनाडा में हुए अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में मौजूद अतिथि।

कनाडा के ब्रैम्पटन शहर के गीता पार्क में भी ब्रह्मसरोवर के पुरुषोत्तमपुरा बाग स्थित श्रीकृष्ण-अर्जुन रथ की तर्ज पर श्रीकृष्ण-अर्जुन रथ स्थापित किया जाएगा। ब्रैम्पटन के मेयर पैट्रिक ब्राउन ने स्वामी ज्ञानानंद के साथ मिलकर ब्रैम्पटन में नए स्वीकृत गीता पार्क में कृष्ण-अर्जुन के रथ लगाने की घोषणा की। तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के तहत कनाडा के मिसिसॉगा लिविंग आर्ट सेंटर में गीता पर सेमिनार और सांस्कृतिक कार्यक्रम किया गया।

इस कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, योग गुरु बाबा रामदेव और स्वामी गुरुशरणंद का वीडियो संदेश भी चलाया गया। स्वामी ज्ञानानंद ने कहा कि कनाडा की धरती पर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का आयोजन भारत वासियों के लिए गर्व की बात है। कनाडा के लोगों की गीता के प्रति आस्था और उत्साह का शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता।

गीता एक ऐसा अलौकिक प्रकाश पुंज है, जो काल, देश और सीमाओं से परे हैं। उन्होंने कहा कि ज्योतिसर की धरती पर ही 5159 वर्ष पहले गीता के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण ने कर्मयोग का संदेश दिया। यह ज्ञान भगवान श्रीकृष्ण ने भले ही भारत भूमि पर दिया है, लेकिन यह पूरे संसार के लिए है। स्वामी ज्ञानानंद ने कहा कि वर्तमान समय में भगवद गीता की प्रासंगिकता और ज्यादा बढ़ गई है।

हर व्यक्ति को गीता को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए
हर व्यक्ति को गीता को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए। उन्होंने कहा कि गीता का संदेश हर काल के लिए प्रासंगिक है और यह हज़ारों साल से मानव को प्रेरणा देता रहा है। उन्होंने कहा कि हमें गीता का संदेश दुनिया के हर कोने तक पहुंचाना है। इसी उद्देश्य से यह कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। कैबिनेट मंत्री कमल गुप्ता ने कहा कि इस आयोजन के जरिए गीता के सार को पूरी दुनिया में फैलाने की कोशिश की जा रही है। शाम के समय सभी प्रतिनिधि ट्रॉयर पार्क गए, इस पार्क का हाल ही में ब्रैम्पटन की सिटी काउंसिल ने नाम बदलकर गीता पार्क कर दिया है।

केडीबी ने लगाई प्रदर्शनी, 48 कोस कुरुक्षेत्र की पहचान व विद्वान के विचार प्रदर्शित किए
कार्यक्रम में गीता पर कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड द्वारा प्रदर्शनी लगाई गई। इसमें 48 कोस कुरुक्षेत्र, कुरुक्षेत्र की पहचान और दुनियाभर के विद्वानों द्वारा गीता पर रखे गए विचार प्रदर्शित किए गए। जीओ गीता और इस्कॉन द्वारा पुस्तक और स्मारिका स्टालों को संचालित किया गया।

कार्यक्रम में ब्रैम्पटन के मेयर पैट्रिक ब्राउन, मिसिसॉगा की मेयर बोनी क्रॉम्बे, एमपीपी मिसिसॉगा दीपक आनंद, एमपीपी ब्रैम्पटन ग्राहम मैक ग्रेगोर, एमपीपी नीना तांगरी, ओंटारियो के महिला सामाजिक और आर्थिक अवसर के सहयोगी मंत्री चार्माइन विलम्स, स्कारबोरो के सांसद शॉन चेन, हरियाणा सार्वजनिक उपक्रम ब्यूरो के चेयरमैन सुभाष बराला और मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. अमित कुमार अग्रवाल, टोरंटो में भारत की महावाणिज्य दूत अपूर्वा श्रीवास्तव, केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, केडीबी के सीईओ चंद्रकांत कटारिया, केडीबी सदस्य उपेंद्र सिंघल, स्वामी संपूर्णानंद और मार्कंडेय आहुजा मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...