हरियाणा के गुरुद्वारों में अब निहंग बॉडीगार्ड होंगे:कुरुक्षेत्र में जगदीश झींडा का ऐलान; बोले- VIP कल्चर को खत्म करेंगे

कुरुक्षेत्र2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जगदीश सिंह झींडा। - Dainik Bhaskar
जगदीश सिंह झींडा।

हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (HGPC) के अध्यक्ष जगदीश सिंह झींडा ने कहा है कि गुरुद्वारों से VIP कल्चर को खत्म किया जाएगा। अक्सर देखा जाता है कि मेंबर साहिबान या कोई प्रधान आकर अलग से लंगर की व्यवस्था कराता है। इस पर पाबंदी लगाई जाएगी। अब बॉडीगार्ड के तौर पर निहंग सिखों को तैनात किया जाएगा।

झींडा शनिवार को कुरुक्षेत्र के छठी पातशाही गुरुद्वारा में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने बताया कि वे कुरुक्षेत्र के डीसी से मिल कर प्रधान पद के लिए जावेदारी जताएंगे। रविवार को सीएम से भी मुलाकात करेंगे। झींडा ने कहा कि गुरुद्वारों में वीआईपी कल्चर को खत्म किया जाएगा। यह देखा गया है कि सरकार के द्वारा दिए गए अंगरक्षक वर्दी व हथियारों के साथ गुरुद्वारा साहिब में प्रवेश करते हैं।

हाऊस मीटिंग में होगा यूनिवसिर्टी का ऐलान

अब अंगरक्षक के रूम में सरकारी कर्मचारियों को नहीं बल्कि हरियाणा के निहंग सिखों को रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा में स्वास्थ्य व शिक्षा पर 60% की राशि खर्च की जाएगी और जल्द ही हाउस की मीटिंग में सिख यूनिवर्सिटी का ऐलान किया जाएगा। जगदीश सिंह झिंडा ने पंजाबी भाषा को बढ़ावा देते हुए पहला स्थान दिलाने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि पहली कक्षा से लेकर दसवीं कक्षा तक पंजाबी भाषा को मुख्य भाषा को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा।

दादूवाला संविधान नकारने में लगे

वहीं बलजीत सिंह दादूवाल के बारे में बोलते हुए झींडा ने कहा कि दादूवाल न तो मेंबरों की मिजोरिटी को मान रहे हैं और न ही संविधान को। मुझे 35 मेंबर में से 33 का समर्थन हासिल है और कानूनी प्रक्रिया के हिसाब से मुझे प्रधान पद सौंपा गया है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्लियामेंट एसजीपीसी है और जो हरियाणा की कमेटी बनी है। वह उसकी स्टेट बॉडी है। हमारी सुखबीर सिंह बादल से गुजारिश है कि वह आकर हमें कार्यभार सौंपे।

खबरें और भी हैं...