पहल:नई शिक्षा नीति; सरकार स्कूलों में अब पीटी की बजाय योग पर देगी ध्यान

नारनौल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नई शिक्षा नीति के तहत प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षा सत्र 2022-23 से विद्यार्थियों को योग शिक्षा देकर उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जाएगी। इसके लिए एससीईआरटी गुड़गांव द्वारा योग का पाठ्यक्रम तैयार करने के बाद शिक्षा निदेशालय ने अब पहली से 10वीं कक्षा तक पाठ्यक्रम में योग को अनिवार्य विषय के तौर पर शामिल कर लिया है।

सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को गति प्रदान करते हुए शिक्षा निदेशालय ने मई माह से प्रत्येक माह के प्रथम शनिवार को योग प्रशिक्षण दिवस के रुप में मनाने का निर्णय लिया है। इसके तहत अब स्कूलों में रोजाना प्रार्थना सभा में 30 मिनट तक विद्यार्थियों से योग क्रियाएं करवाई जाएंगी तथा महीने के प्रथम शनिवार को योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे विद्यार्थियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा मिलेगा।

बता दें कि योग भारत की प्राचीन जीवन पद्धति है। योग के माध्यम से शरीर, मन और मस्तिष्क को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखा जा सकता है। शरीर, मन एवं मस्तिष्क के स्वस्थ रहने से व्यक्ति स्वयं को अपने आप स्वस्थ महसूस करता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने प्रदेश की भावी पीढ़ी के शरीर, मन एवं मस्तिष्क को पूर्ण रुप से स्वस्थ रखने के लिए नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम में योग को अनिवार्य विषय के तौर पर शामिल करने का निर्णय लिया है।

सरकार ने अपनी इस योजना को अतिशीघ्र लागू करने को एससीईआरटी गुड़गांव से योग का पाठ्यक्रम तैयार करवा शिक्षा सत्र 2022-23 में स्कूलों में योग शिक्षा देने का शेड्यूल जारी कर दिया है। योग शिक्षा शेड्यूल के अनुसार मई माह से प्रत्येक माह के प्रथम शनिवार को स्कूलों में योग दिवस मनाया जाएगा। इस दौरान विद्यार्थियों को स्कूलों में कार्यरत पीटीआई, डीपी व दूसरे योग शिक्षक योग क्रियाओं का प्रशिक्षण देंगे। इसके साथ ही स्कूल में प्रतिदिन प्रार्थना सभा में विद्यार्थियों को 30 मिनट तक योग क्रियाएं करवाई जाएंगी।

स्कूलों में अधिकारिक तौर पर आज से शुरू हो गया योग दिवस कार्यक्रम
राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद हरियाणा द्वारा प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों एवं डाइट प्राचार्यों को दो दिन पहले 5 मई को जारी किए गए पत्र क्रमांक अ.शि/2022/354 के तहत प्रदेश के सभी स्कूलों में मई माह से प्रत्येक माह के प्रथम शनिवार को योग प्रशिक्षण दिवस मनाने का अधिकारिक आदेश जारी किया गया है।

इस प्रकार मई माह का प्रथम शनिवार 7 मई का है। इसी के तहत आज जिले के स्कूलों में अधिकारिक तौर पर को योग प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हो गया। परंतु जिले में जानकारी के अभाव में गिने-चुने स्कूलों को छोड़ कर दूसरे स्कूलों में आज योग प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन नहीं हो पाया। अब जून माह के प्रथम शनिवार को स्कूलों में योग दिवस मनाया जाएगा।

नई शिक्षा नीति के तहत स्कूलों में शिक्षा सत्र 2022-23 में विद्यार्थियों को योग शिक्षा देने का निर्णय लिया है। शिक्षा विभाग इसकी तैयारियों में जुटा हुआ है। इसी के तहत एससीईआरटी गुड़गांव से योग का पाठ्यक्रम तैयार करवाया लगा है और योग को पाठ्यक्रम में अनिवार्य विषय के तौर पर शामिल कर लिया गया है। -बिजेंद्र सिंह श्योराण, डीईईओ नारनौल।

खबरें और भी हैं...