राष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन:हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का हुआ समापन, भारत को अपना ध्यान रोजगार सुरक्षा पर केंद्रित करना चाहिए- डॉ. केतकर

महेंद्रगढ़13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विद्यार्थियों व शोधार्थियों के लिए यह आयोजन उपयोगी साबित होगा

हकेवि, महेंद्रगढ़ में अफगानिस्तान की बदली परिस्थितियों के परिणामस्वरूप भारत व एशियाई देशों पर हो रहे इसके प्रभावों पर केंद्रित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का शनिवार को समापन हो गया। विश्वविद्यालय के राजनीतिक विज्ञान विभाग तथा लद्दाख एवं जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र द्वारा भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर) प्रायोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी के दूसरा चरण जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय की डॉ. आरुषि केतकर द्वारा की गई।

डॉ. केतकर ने तालिबान की कट्टरपंथी प्रवृत्ति की चर्चा करते हुए चरमपंथी इस्लाम के दक्षिण एशिया (मुख्य रुप से भारत) पर प्रभावों पर प्रकाश डाला। अफगानिस्तान में हुए सत्ता परिवर्तन से उत्पन्न हुई परिस्थितियों के समाधान का जिक्र करते हुए उन्होंने सुझाव दिया कि भारत को अपना ध्यान रोजगार सुरक्षा व विकासात्मक-निर्माण पर केंद्रित करना चाहिए। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार ने कहा कि इस आयोजन में शामिल सभी विशेषज्ञ वक्ताओं ने विभिन्न पक्षों पर प्रकाश डाला। विद्यार्थियों व शोधार्थियों के लिए यह आयोजन उपयोगी साबित होगा।

खबरें और भी हैं...