पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • 1370 Of Corona, 68 New Patients Of Fungus Found, Strict On Charging More From Patients By Private Hospitals

कोरोना घट रहा:कोरोना के 1370, फंगस के 68 नए मरीज मिले, निजी अस्पतालों द्वारा मरीजों से ज्यादा चार्ज वसूलने पर सख्ती

राजधानी हरियाणा24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य में अब तक ब्लैक फंगस से 50 मरीज दम तोड़ चुके हैं। - Dainik Bhaskar
राज्य में अब तक ब्लैक फंगस से 50 मरीज दम तोड़ चुके हैं।

प्रदेश सरकार ने बेशक लॉकडाउन की अवधि बढ़ा दी है। लेकिन राहत की बात है कि कोरोना के नए केस और मौतों का ग्राफ नीचे आ रहा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1500 से कम मरीज मिले। जबकि लगातार तीसरे दिन भी मौतें 100 से कम रहीं। वहीं, एक चिंता अभी भी कायम है।

प्रदेश में ब्लैक फंगस के केस बढ़ रहे हैं। रविवार को भी 50 से ज्यादा नए केस मिले। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1370 नए मरीज मिले हैं। इसके साथ ही कुल मरीजों की संख्या 7,54, 664 हो गई है। दूसरी तरफ मौतों के आंकड़ों में भी कुछ कमी आई है। एक दिन में 90 मरीजों ने दम ताेड़ा है।

हिसार में सबसे ज्यादा 12 मरीजों की जान गई। इसके अलावा जींद व भिवानी में 9-9, गुड़गांव में 8 मरीजों ने दम तोड़ दिया। प्रदेश में अब तक 8917 लोगों की सांसें कोरोना रोक चुका है। इधर, 3370 मरीजों के डिस्चार्ज होने के बाद 7 लाख 26 हजार 81 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। इसके साथ ही अब प्रदेश में एक्टिक मरीजों की संख्या 19,667 रह गई है।

फंगस के कुल मरीजों की संख्या 878 हुई

24 घंटे में प्रदेश में ब्लैक फंगस के 68 नए मरीज मिले हैं। इनका कुल आंकड़ा 878 पर पहुंच गया है। इधर, सरकार का दावा है कि मरीजों के लिए अभी उसके पास 1200 इंजेक्शन हैं। दो हजार इंजेक्शन अगले दो दिनों में मिल जाएंगे। जबकि 5 हजार इंजेक्शन का ऑर्डर दिया जा चुका है। राज्य में अब तक ब्लैक फंगस से 50 मरीज दम तोड़ चुके हैं। इस बीमारी का सबसे ज्यादा कहर गुड़गांव, रोहतक व हिसार में दिख रहा है।

प्राइवेट अस्पतालों का होगा रेंडम ऑडिट

कोराेना के इलाज के नाम पर प्राइवेट अस्पतालों द्वारा अधिक चार्ज वसूलने की लगातार शिकायतों के बाद अब सरकार इनका रेंडम ऑडिट कराएगी। सरकार के पास मामला पहुंचा है कि एक पॉजिटिव मरीज को दो दिन बाद निगेटिव दिखा इलाज शुरू किया गया। ताकि इलाज खर्च तय दायरे में न आए। वहीं, जिलों में बिल जांच के लिए बनाई गईं कमेटियां अब एक-एक सीए शामिल किया जाएंगे।

खबरें और भी हैं...