• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • After 51 Days, MLA Neeraj Sharma Had Discarded The Clothes Worn In Protest Against The Non arrest Of The Corrupt

कांग्रेसी MLA ने 51 दिन बाद पहने कपड़े:फरीदाबाद निगम घोटाले के आरोपी न पकड़े जाने पर नीरज शर्मा ने 22 मार्च को त्यागे थे वस्त्र

चंडीगढ़2 महीने पहले

हरियाणा के फरीदाबाद जिले के विधायक नीरज शर्मा सोमवार को सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा के साथ अयोध्या पहुंचे और वहां पर भगवान राम के मंदिर में माथा टेककर दोबारा वस्त्र धारण किए। फरीदाबाद नगर निगम घोटाले के जिम्मेदार भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर विधायक एनआईटी फरीदाबाद नीरज शर्मा ने 22 मार्च, 2022 को वस्त्र त्यागे थे।

हरियाणा विधानसभा में उन्होंने घोषणा की थी कि जब तक नगर निगम फरीदाबाद में हुए 200 करोड़ रुपए के घोटाले के आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होती, तब तक वह न तो जूते पहनेंगे और न ही वस्त्र। 2 दिन पहले घोटाले के मास्टर माइंड चीफ़ इंजीनयर दौलत राम भास्कर की गिरफ़्तारी हुई। इस बीच 51 दिन तक विधायक नीरज शर्मा नंगे पांव, बिना सिले वस्त्र पहने भ्रष्टाचार के खिलाफ़ आवाज उठाते रहे।

आरोपी की गिरफ्तारी होने के बाद उन्होंने सोमवार को अपने आराध्य भगवान श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर सरयू तट पर सिले वस्त्र और जूते फिर से पहनने का निर्णय लिया। सांसद दीपेंद्र हुड्डा की उपस्थिति में विधायक नीरज शर्मा ने महंत कल्याणदास का आशीर्वाद लेकर सिले वस्त्र धारण किए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ उनका यह धर्म युद्ध लगातार जारी रहेगा।

सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा की गठबंधन सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी है। हर महकमे में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। विधायक नीरज शर्मा ने भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के खिलाफ न सिर्फ अपनी आवाज बुलंद की, बल्कि सरकार पर नैतिक दबाव भी बनाया, जिसके कारण भ्रष्टाचारियों को गिरफ्तार करना पड़ा। भ्रष्टाचार के खिलाफ यह लड़ाई आगे भी जारी रहेगी। उम्मीद है कि भ्रष्टाचारी इस मामले से सबक लेकर सुधर जाएंगे।

विधानसभा के बजट सत्र में लिया था प्रण

फरीदाबाद नगर निगम में भ्रष्टाचार के आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर नीरज शर्मा ने प्रण लिया था कि जब तक सरकार आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करती, तब तक वह कपड़े नहीं पहनेंगे। इस ऐलान पर विपक्ष ने सरकार को घेरा भी था, हालांकि सत्तापक्ष ने इस नौटंकी कहा था।