पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसान आंदोलन में पहुंचे चौटाला:काले कानून रद्द होंगे, सरकार का भी होगा पतन: चौटाला

पलवल/सिरसा/यमुनानगर/लाडवा/कुरुक्षेत्र8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंच से की सियासी घोषणाएं, प्रदेश-केंद्र सरकार को घेरा

जेबीटी भर्ती घोटाले में सजा पूरी करने के बाद हरियाणा के पूर्व सीएम ओपी चौटाला ने राजनीति में नई पारी की शुरुआत पलवल से की है। मंगलवार को वे पलवल में किसानों के धरनास्थल पर पहुंचे। किसानों के मंच से ही उन्होंने केंद्र व प्रदेश की गठबंधन सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा- ये तीनों कृषि कानून किसानों को बर्बाद कर देंगे। ये काले कानून रद्द तो होंगे ही, इन्हें बनाने वाली केंद्र सरकार का पतन जल्द होगा।

उन्होंने कहा कि उनकी राजनीति में पलवल के लोगों का अहम योगदान रहा है, इसीलिए वह किसानों के बीच जाने की शुरुआत यहां से कर रहे हैं। इसके बाद गाजीपुर जाएंगे। चौटाला बोले- इस सरकार में किसानों को ना तो समय पर सिंचाई के लिए पानी मिल रहा है और ना खाद-बीज की सुविधा। भाजपा पर घेरते हुए कहा कि यह सरकार सिर्फ हिंदू-मुस्लिम को लड़ाने का काम करती है। किसानों के मंच से चुनावी वादे भी करते दिखे। उन्होंने कहा कि पिछली दफा सरकार बनने के बाद 3600 बच्चों को नौकरी देने पर 10 साल की सजा हुई, अबकी बार सरकार बनने के बाद हर पढ़े-लिखे बच्चे को नौकरी देने का काम करूंगा, चाहे फांसी क्यों ना चढ़ना पड़े।

चढ़ूनी के नए सुर- कानून वापस लेने से नहीं सुधरेंगे हालात

मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी यमुनानगर टोल प्लाजा से अपने गुट के सदस्यों के साथ दिल्ली के लिए रवाना हुए। चढ़ूनी इस दौरान नए सुर में दिखे। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि सस्पेंशन आगे भी बढ़ाया जा सकता है, क्योंकि मैं अपनी बात से पीछे हटने वाले नहीं, कानून रद्द करने की मांग मोर्चा की कोई मान ही नहीं रहा। अगर कानून वापस हो भी जाते हैं तो भी किसान वेंटिलेटर पर ही रहेगा। वहीं, लाडवा में उन्होंने कहा, ‘सरकार जितना चाहे कड़ा रुख अपना ले, किसान झुकने वाले नहीं हैं।

सिरसा- साथियों की रिहाई के लिए आज करेंगे हाईवे जाम
राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार 5 किसानों को रिहा करने की मांग पर लघु सचिवालय के मुख्य गेट के आगे धरना दे रहे किसानों ने बुधवार को दो घंटे तक नेशनल हाईवे नंबर-9 को 3 जगह से जाम करनेे का ऐलान कर दिया है। किसानों ने ऐलान किया कि जब तक उनके साथी रिहा नहीं किए जाते, तब तक वे डटे रहेंगे। किसान नेता लखविंद्र सिंह ने बताया कि बुधवार को सुबह 9 बजे से 11 बजे तक 2 घंटे नेशनल हाईवे के दोनों टोल खुइयां मलकाना व भावदीन को जाम किया जाएगा। गांव पंजुआना के पास रोड जाम किया जाएगा। किसानों से अपील कर दी गई है। वहीं, बरनाला रोड पर धरना व आमरण अनशन जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...