पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संयुक्त मोर्चा और चढ़ूनी के अलग-अलग बोल:चढ़ूनी बोले- किसान अपनी सरकार बनाए; मोर्चा ने कहा- ऐसा इरादा नहीं

राई24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राई| कुंडली में मंच से संबोधित करते किसान मोर्चा के नेता। - Dainik Bhaskar
राई| कुंडली में मंच से संबोधित करते किसान मोर्चा के नेता।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि किसानों को मिशन यूपी की बजाय मिशन पंजाब चलाना चाहिए। भाजपा को उखाड़ फेंकने से कुछ हासिल नहीं होगा। जब तक किसानों की अपनी सरकार नहीं बनेगी, किसान अपनी मांग स्वीकार नहीं करा सकते। भाजपा, कांग्रेस समेत सभी पार्टियों का बहिष्कार कर पंजाब के सभी किसान संगठनों को अपने उम्मीदवार चुनाव में उतारने होंगे।

जब पंजाब में किसानों की सरकार होगी तो यह देश के लिए एक मॉडल पेश होगा। किसानों को पार्टियों के चंगुल से बाहर निकलकर केवल अपनी सरकार बनाने के लिए मिशन पंजाब शुरू करना होगा। जबकि शाम को संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरनाम चढ़ूनी के बयान को व्यक्तिगत बताया है। उनका कहना है कि उनका मिशन पंजाब शुरू करने का कोई इरादा नहीं है।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा यूपी में भाजपा को हराने के लिए मिशन यूपी चला रहा है। इससे कोई हल नहीं निकलने वाला है। बंगाल में भाजपा को हरा दिया, लेकिन समस्या हल नहीं हुई। किसानों का एजेंडा केवल भाजपा को हराने से पूरा नहीं होगा। भाजपा हारती है तो कांग्रेस या अन्य कोई दल सरकार बना लेगा।

हरियाणा में पहले बंसीलाल, फिर भजनलाल व हुड्‌डा का विरोध किसानों ने किया। सरकार को बदला, लेकिन कोई और दल सत्ता पर काबिज हो गया। इससे किसानों को कोई लाभ नहीं हुआ। भाजपा की सरकार से पहले भी किसान आत्महत्या कर रहे थे, आज भी कर रहे हैं। इसमें दल बदले, लेकिन किसानों की दशा नहीं बदली। इसलिए संयुक्त किसान मोर्चा के सभी संगठनों को पंजाब के चुनाव मैदान में उतरना चाहिए। किसानों को विधायक बनाएं और अपनी सरकार बनाएं।

संयुक्त मोर्चा का जवाब- यह व्यक्तिगत विचार
किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी के बयान के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने भी अपना रूख स्पष्ट कर दिया। किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ. दर्शन पाल, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव ने प्रेस रीलिज जारी करते हुए कहा कि मिशन पंजाब एक विचार है, जिसे संयुक्त किसान माेर्चा द्वारा न लाया गया है, न चर्चा या तय किया गया है। ये केवल व्यक्तिगत विचार हैं। इससे मोर्चा का कोई लेना-देना नहीं है। संयुक्त किसान मोर्चा पहले की तरह से अपने तय एजेंडे के तहत काम करेगा।

महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन में जाम न लगाएं

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ आज (8 जुलाई) को पूरे भारत में सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक 2 घंटे तक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदर्शनकारी अपने स्कूटर, बाइक, ट्रैक्टर, कार, बस, ट्रक और खाली गैस सिलेंडर समेत परिवहन के किसी भी साधन के साथ विरोध के लिए चुने गए सार्वजनिक स्थानों पर पहुंचेंगे।

मोर्चा की अपील है कि विरोध के दौरान सड़कों को जाम न किया जाए, बल्कि सड़क के एक तरफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया जाए। किसान, मजदूर, युवा, छात्र, महिलाएं, कर्मचारी, दुकानदार, ट्रांसपोर्टर, व्यापारी विरोध का हिस्सा बनें। कीमत आधा करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...