पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरकारी टैक्स से खिलवाड़:गाड़ियों की फर्जी RC बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश, CIA ने सरगना को किया गिरफ्तार

सिरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा में गिरफ्तार किए गए वाहनों की फर्जी रजिस्ट्रेशन कॉपी तैयारने वाले गिरोह के सरगना के बारे में जानकारी देते पुलिस अधिकारी और आरोपी की पास करवाई गई गाड़ियां, जो बरामद की गई हैं (नीचे)। - Dainik Bhaskar
सिरसा में गिरफ्तार किए गए वाहनों की फर्जी रजिस्ट्रेशन कॉपी तैयारने वाले गिरोह के सरगना के बारे में जानकारी देते पुलिस अधिकारी और आरोपी की पास करवाई गई गाड़ियां, जो बरामद की गई हैं (नीचे)।

सिरसा पुलिस की CIA ब्रांच ने शुक्रवार को गाड़ियों की फर्जी RC बनाने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस गिरोह के सरगना को भी गिरफ्तार किया गया है। पता चला कि आरोपी बैंकों की फाइनेंस वाली गाड़ियों को महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक से ऑनलाइन बोली के माध्यम से खरीदता है। फिर सरकारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी बैंक ऑथोरिटी प्रमाण पत्र खुद ही तैयार कर लेता है। अब तक आरोपी की 17 फर्जी गाड़ियां बरामद की जा चुकी हैं।

आरोपी की पहचान सुनील कुमार उर्फ आशु पुत्र हरीश चंद्र वासी सुभाष नगर रोहतक के रूप में हुई है। DSP कुलदीप बैनीवाल ने बताया कि CIA प्रभारी इंस्पेक्टर नरेश कुमार लगातार फर्जी RC वाली गाड़ियां अवैध रूप से चलाने बारे सूचनाएं मिल रही थी। हाल ही में 14 जनवरी को सूचना मिली थी कि रोहतक का सुनील चिटकारा गाड़ियों की फर्जी RC तैयार करवाता है। उसने HR02AT2859, HR02AT1916 और HR02AT3744 नंबर की 3 गाड़ियां सिरसा में भी बेच रखी हैं। इसके बाद SI ओमप्रकाश के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। टीम ने तत्परता से कार्रवाई करते हुए तीनों गाड़ियों को सिरसा से बरामद कर लिया, जिनकी जांच की गई तो गाड़ियों में बहुत बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया। गाड़ी के मालिकों ने बताया कि उन्होंने गाड़ियां सुनील चिटकारा की मार्फत खरीदी हैं।

टीम ने रोहतक से सुनील चिटकारा को काबू कर लिया। पूछताछ में पता चला कि आरोपी बैंकों की फाइनेंस वाली गाड़ियों को महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल व कर्नाटक से ऑनलाइन बोली के माध्यम से खरीदता है। फिर सरकारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी बैंक ऑथोरिटी प्रमाण पत्र खुद ही तैयार करता है। इसके लिए गाड़ी के चेसी नंबर से भी छेड़छाड़ की जाती है, ताकि ऑनलाइन नंबर डालने से गाड़ी का पुराना नंबर शो ना हो। इतना ही नहीं मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर की भी नकली रिपोर्ट खुद तैयार करके फर्जी हस्ताक्षर किए जाते हैं।

इस फर्जीवाड़े में यमुनानगर के लक्ष्मी नगर का अमित कुमार पुत्र देवेन्द्र कुमार भी मिल हुआ है। चह रजिस्ट्रेशन ऑथोरिटी और सरल केंद्र जगाधरी का इंचार्ज है। वह 60-65 हजार रुपए प्रति गाड़ी लेकर फर्जी तरीके से गाड़ियां पास करवाता था। आरोपियों ने पिछले 2 साल में काफी संख्या में गाड़ियां फर्जी तरीके से पास करवाई हैं।

शुक्रवार को रिमांड खत्म होने पर पुलिस ने उसे दोबारा से अदलत में पेश करके रिमांड पर लिया है। CIA टीम ने अब तक आरोपी सुनील की 17 फर्जी गाड़ियां बरामद कर ली हैं। वहीं अब रिमांड के दौरान गिरोह से जुड़े अन्य लोगों को काबू किया जाएगा और फर्जी गाड़ियों की बरामदगी की जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

और पढ़ें