पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Demonstrations At 45 Places In The State, Houses Of 6 BJP JJP Ministers, 7 MPs And 17 MLAs Surrounded, Clashes In Panipat Panchkula

किसान आंदोलन:प्रदेश में 45 जगह प्रदर्शन, भाजपा-जजपा के 6 मंत्रियों, 7 सांसदों और 17 विधायकों के आवास घेरे, पानीपत-पंचकूला में झड़प

हरियाणा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टोहाना में थाना सदर के मुख्य गेट पर पहुंचे गुरनाम चढ़ूनी के साथ भारी संख्या में किसान थे। जबकि कोरोना काल में दो गज की दूरी बहुत जरूरी है। लेकिन लोगों की जिंदगी खतरे में डाली जा रही है। - Dainik Bhaskar
टोहाना में थाना सदर के मुख्य गेट पर पहुंचे गुरनाम चढ़ूनी के साथ भारी संख्या में किसान थे। जबकि कोरोना काल में दो गज की दूरी बहुत जरूरी है। लेकिन लोगों की जिंदगी खतरे में डाली जा रही है।
  • कृषि कानूनों के बनने का एक साल पूरा; न कानून लागू हुए, न रद्द, आंदोलन से भी कुछ हासिल नहीं
  • जिन जिलों में भाजपा-जजपा के विधायक-मंत्री नहीं, वहां कार्यालयों के बाहर किया प्रदर्शन
  • हिसार में सबसे ज्यादा 8 जगह विरोध-प्रदर्शन: सांसद, मंत्री और विधायकों के आवास घेरे

तीनों कृषि कानूनों को बने 5 जून को एक साल पूरा हो गया है, लेकिन अब तक न तो कानून लागू हो पाए, न ही रद्द। हालांकि कानून बनने से पहले से किसान इनका विरोध कर रहे। इसके बाद से दिल्ली के बॉर्डरों समेत देशभर में धरने-प्रदर्शन कर भाजपा और सहयोगी दलों के नेताओं का विरोध हो रहा है, लेकिन आंदोलनकारियों को भी अब तक हासिल कुछ नहीं हुआ।

इसके एक साल पूरा होने पर शनिवार को प्रदेशभर में 45 से ज्यादा जगह भाजपा-जजपा नेताओं के आवास व कार्यालयों का घेराव कर कानूनों की प्रतियां फूंकी गईं। इस दौरान भाजपा-जजपा के 6 मंत्री, 7 सांसदों और 17 विधायकों के आवासों का घेराव किया गया। सबसे ज्यादा हिसार में 8 जगह विधायकों-सांसदों के घर के बाहर प्रदर्शन किया गया।

पानीपत में सांसद संजय भाटिया के घर का घेराव करने आए किसानों को पुलिस कर्मचारियों ने रोका तो झड़प हो गई। पंचकूला में किसानों ने 3 जगह जाम भी लगाया। इस दौरान उनकी पुलिस कर्मियों के साथ धक्का-मुक्की भी हुई। पुलिस ने किसानों को रोके रखा।

बबली विवाद: टोहाना में गिरफ्तार लोगों की रिहाई पर अड़े किसान नेता, रातभर थाने का घेराव कर वहीं जमाया डेरा

टोहाना, विधायक देवेंद्र बबली विवाद शनिवार शाम थम गया, लेकिन गिरफ्तार किसानों को रिहा करने की मांग पर किसान थाने का घेराव कर बैठे रहे। मांगें न मानने पर देर रात टिकैत बोले- यहीं टेंट लगा दो। इसके बाद किसानों ने शनिवार रात 11 बजे खाना खाया। किसान नेताओं ने साथियों की रिहाई होने तक धरना जारी रखने व गिरफ्तारियां देने का ऐलान कर दिया। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

होशियारी: किसान जुटते रहे तब तक कार्यक्रम कर निकले सीएम

करनाल, सेक्टर-4 में सीएम मनोहर लाल सुबह पौधारोपण किया। किसानों ने सीएम के विरोध करने की चेतावनी दी हुई थी, सीएम सुबह 8 बजे ही कार्यक्रम में पहुंच गए और एक घंटा तक कार्यक्रम में रहे। बसताड़ा टोल उस समय किसान इक्ठटा हो रहे थे। जब तक किसान इक्टठा हुए, तब तक सीएम कार्यक्रम निपटाकर वापस चले गए। डेढ़ बजे किसान पहुंचे। किसानों ने सीएम और डिप्टी सीएम का पुतला जलाया।

किसानों पहुंचने से पहले घर से निकलीं विधायक निर्मल चौधरी

गन्नौर, संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर शनिवार को दो अलग-अलग संगठनों से जुड़े किसान विधायक निर्मल चौधरी के आवास पर पहुंचे। किसानों के पहुंचने से पहले ही थाना प्रभारी वजीर सिंह रेढू के नेतृत्व में भारी पुलिस बल विधायक की कोठी के आसपास तैनात हो गया। कोठी पर किसानों के आने से पहले ही विधायक निर्मल चौधरी शहर में एक कार्यक्रम में पौधरोपण कर निकल गई थीं।

पानीपत में 1 किसान को मिली अनुमति, उसने जलाई एक प्रति

पानीपत में सांसद भाटिया के घर के बाहर व किसानों के बीच धक्का-मुक्की हुई।
पानीपत में सांसद भाटिया के घर के बाहर व किसानों के बीच धक्का-मुक्की हुई।

पानीपत, सांसद सांसद संजय भाटिया के पानीपत स्थित आवास के बाहर कृषि कानूनों की प्रतियां फूंकने निकले किसानों को पुलिस ने आवास से पहले ही रोक लिया। किसानों व पुलिस में धक्कामुक्की हुई। फिर एक किसान के आवास पर पहुंचकर प्रतियां जलाने पर सहमति बनी। एक किसान सांसद के आवास के बाहर पहुंचा और प्रतियां जलाकर वापस आ गया। इसके बाद किसान लौट गए। फिर विधायक प्रमोद विज के निवास पर प्रतियां जलाई गईं।

खबरें और भी हैं...