सेहत विभाग और ESIC में होगा MOU:CM और केंद्रीय श्रम मंत्री के साथ मीटिंग में ESI अस्पतालों को लेकर चर्चा

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम मनोहर लाल और केंद्रीय मंत्री भूपेश यादव। - Dainik Bhaskar
सीएम मनोहर लाल और केंद्रीय मंत्री भूपेश यादव।

हरियाणा के श्रमिकों को नागरिक अस्पतालों की स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाए जाने की दिशा में प्रदेश स्वास्थ्य विभाग और कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) के बीच MOU होगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नई दिल्ली में केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव के साथ बैठक के बाद यह जानकारी दी।

केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने मीडिया से बातचीत के दौरान हरियाणा में श्रमिकों की सामान्य सेवाओं-सुविधाओं, श्रमिक कल्याण योजनाओं के सही रूप में कार्यान्वयन के संदर्भ में हरियाणा सरकार की प्रशंसा की। मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा में श्रमिकों को पर्याप्त चिकित्सा सेवा-सुविधाओं के लाभ देने की दिशा में ESI अस्पताल सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि बैठक में गुरुग्राम में स्थापित होने वाले 500 बेड क्षमता के ESI अस्पताल परियोजना के अतिरिक्त प्रदेश में स्थापित होने वाले अन्य 5 ESI अस्पतालों, नर्सिंग महाविद्यालय व ESI डिस्पेंसरियों के संदर्भ में गहन विचार-विमर्श हुआ। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग हरियाणा व कर्मचारी राज्य बीमा निगम के मध्य एमओयू होगा। श्रमिकों का विभिन्न प्रकार का डाटा भी सांझा किया जाएगा।

अरावली सफारी पार्क को देंगे वैश्विक पहचान

मुख्यमंत्री ने बताया कि बैठक में अरावली सफारी पार्क को विश्वस्तरीय पहचान और प्रारूप दिए जाने के संदर्भ में विभिन्न संबंधित विषयों पर विस्तार से चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि हरियाणा को पर्यटन हब के रूप में विकसित किए जाने की दिशा में अरावली सफारी पार्क परियोजना एक महत्वपूर्ण घटक होगा। अरावली सफारी परियोजना की स्थापना के लिए स्थान व भूमि को चिन्हित किया जा चुका है।

उन्होंने बताया कि केंद्रीय मंत्री ने अरावली क्षेत्र के जीर्णोद्धार व संरक्षण के लिए हरियाणा सरकार द्वारा किए गए कार्यों के लिए सरकार की सराहना भी की। केंद्रीय मंत्री ने अरावली सफारी के प्रारूप में हरियाणवी आंचलिक सांस्कृतिक पहचान का समावेश किए जाने के लिए भी कहा है। अरावली सफारी को विश्वस्तरीय पहचान व प्रारूप दिए जाने की दिशा में विश्व के विभिन्न देशों में स्थापित कुछ विश्वस्तरीय सफारी पार्कों का दौरा भी किया जाएगा।