• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Domestic Violence Increasing In Haryaana During Corona Period, The Women's Commission Solving Cases Online

कोरोना काल में हरियाणा में दरकते रिश्ते:महिला आयोग के पास घरेलू विवाद की 150 से ज्यादा शिकायतें पहुंची; सुलह सिर्फ 25 के बीच, छोटी-छोटी बातें कलह की वजह

हिसार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना महामारी से लड़ने के वक्त में पति-पत्नी आपस में लड़कर रिश्ते बिगाड़ रहे हैं। - Dainik Bhaskar
कोरोना महामारी से लड़ने के वक्त में पति-पत्नी आपस में लड़कर रिश्ते बिगाड़ रहे हैं।

काेराेना काल में हरियाणा में रिश्ते दरकते नजर आ रहे हैं। क्योंकि पति और पत्नी के बीच मनमुटाव की शिकायतें कम नहीं हो रही हैं। पिछले 5 माह में घरेलू विवाद की 150 से अधिक शिकायतें राज्य महिला आयोग के पास प्रदेश के विभिन्न जिलाें से पहुंची हैं। इनमें किसी घर में मनपसंद खाना नहीं बनाने ताे कहीं दिनभर टीवी और मोबाइल पर व्यस्त रहने काे लेकर दंपतियों के बीच विवाद बढ़ रहा है। हालांकि, राज्य महिला आयोग 25 से अधिक दंपतियों के बीच ऑनलाइन माध्यम से सुलह भी करा चुका है। लेकिन यह संख्या काफी कम है।

इन किस्साें से जानिए.. कैसे छाेटी-छाेटी बाताें पर झगड़ रहे
हिसार की महिला ने बताया कि दाे साल पहले उसकी शादी पानीपत के युवक से हुई थी। काेराेना काल में पति भी घर पर रहते हैं। वह मोबाइल में गेम खेलने लगती है ताे पति काे पसंद नहीं आता है। एक माह से लगातार झगड़ा कर रहे हैं, जिससे वह परेशान है।

फतेहाबाद की महिला ने शिकायत करते हुए बताया कि उसने पति से टीवी का रिमोट ले लिया था। इसी बात काे लेकर वह झगड़ा करने लगे। एक सप्ताह से लगातार झगड़ा किया जा रहा है। उन्होंने राज्य महिला आयोग से इस मामले को निपटाने की गुहार लगाई है।

साेनीपत की महिला ने आयोग से शिकायत करते हुए बताया कि उसके पति अध्यापक हैं। लाॅकडाउन के दाैरान उसका टीवी देखना पति काे पसंद नहीं है, जिसके कारण उसके साथ झगड़ा करते हैं। कई बार मारपीट भी का जा चुकी है। पति को समझाने के लिए गुहार लगाई है।

राेहतक की एक महिला ने अपने पति के खिलाफ शिकायत दी है। आरोप लगाया कि जब से लाॅकडाउन लगा है, तब से उसका और उसके पति के बीच विवाद बढ़ गया है। पति मनपसंद खाना नहीं बनाने की बात कहते हैं। दाेनाें की शादी 3 साल पहले ही हुई थी।

शिकायताें का ऑनलाइन कर रहे समाधान: प्रीति
पिछली बार की अपेक्षा घरेलू उत्पीड़न की शिकायतें कम हैं। ऑनलाइन समाधान किया जा रहा है। कुछ दंपतियों के बीच सुलह कराई जा चुकी है। लेकिन दंपति काे प्रयास करना चाहिए कि विवाद काे खुद सुलझा लिया जाए। एक-दूसरे से विवाद करने की बजाय परिवार को काेराेना से बचाने पर ध्यान देना चाहिए। यह समय एक-दूसरे से झगड़े का नहीं, बल्कि हाैसला बढ़ाने का है।
- प्रीति भारद्वाज, चेयरपर्सन, महिला आयाेग