पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Farmers Protest Sirsa Farming Laws, Deputy CM Surrounds Housing; 6 Crops Will Be Bought On MSP And Will Give Answer To Those Who Do Little Politics

खेती कानूनों का विरोध:किसानों ने डिप्टी CM के आवास को घेरा, दुष्‍यंत चौटाला बोले-होगी सख्‍त कार्रवाई; 6 फसलें MSP पर खरीदवाकर देंगे ओछी राजनीति करने वालों को जवाब

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के घर के पास धरने पर बैठे किसानों को समझाने की कोशिश करते पुलिस अधिाकारी। - Dainik Bhaskar
सिरसा में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के घर के पास धरने पर बैठे किसानों को समझाने की कोशिश करते पुलिस अधिाकारी।

खेती कानूनों के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों ने सोमवार को सिरसा में हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के आवास को घेर लिया। उन्होंने चौटाला के घर बाहर लगे टैंट को हटाने के लिए दबाव बनाने की कोशिश की। पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया। जिद पर अड़े किसान उप मुख्यमंत्री आवास के दूसरी तरफ सड़क के बीच धरने पर बैठ गए। इस पर दुष्यंत ने प्रदर्शन के दौरान हिसा पर उतरने वालों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है, वहीं यह भी कहा कि अब किसान सभा नहीं राजनैतिक सभा होने लगी है। ऐसे लोगों को वह फसल खरीद सीजन में सभी छह फसलें न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीदवाकर जवाब देंगे।

मिली जानकारी के अनुसार उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला रविवार शाम को ही सिरसा पहुंचे थे। इसके बाद सोमवार को काफी संख्या में किसान सभा से जुड़े हुए लोग बरनाला रोड स्थित चौटाला के आवास के समक्ष पहुंच गए। प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि एक तरफ आंदोलन में 300 से अधिक किसान शहीद हो चुके हैं, उधर दूसरी तरफ उपमुख्यमंत्री लड्डू बांट रहे हैं। किसान नेता लखविंदर सिंह, हरविंदर सिंह, रणधीर जोधका, गुरप्रीत सिंह और अन्य ने मांग की कि दुष्यंत के घर के आगे लगा टैट हटाया जाए। उन्होंने कहा कि पिछले 4 महीने से किसान धरने पर बैठे हुए हैं और सरकार उनकी सुध नहीं दे रही है।

हालांकि किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए उप मुख्यमंत्री आवास के समक्ष भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा। DSP मुख्यालय आर्यन चौधरी सिविल थाना प्रभारी जितेंद्र सिंह किसानों को समझाते नजर आए, लेकिन अपनी जिद पर अड़े किसान बाद में उप मुख्यमंत्री आवास के दूसरी तरफ सड़क के बीच बैठकर धरने पर बैठ गए। दूसरी ओर उप मुख्यमंत्री आवास की तरफ जाने वाले इस मार्ग को बैरिकेड लगाकर बंद किया गया। यहां सामान्य दिनों में भी पुलिस बल तैनात रहता है।

उधर इस मसले पर उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कुछ लोग किसान आंदोलन का राजनैतिक लाभ लेना चाहते हैं। सरकार नहीं चाहती कि प्रदेश का माहौल तनावपूर्ण बने, इसलिए बॉर्डर पर बैठे किसानों को प्राथमिकता के आधार पर मदद दी जा रही है। शांतिपूर्वक प्रदर्शन करना सबका अधिकार है, लेकिन अगर कोई तनाव पूर्ण हरकत करता है तो सरकार उसे सख्ती से निपटने का काम करेगी। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि अब यह किसान आंदोलन आंदोलन में रहकर राजनीति का रूप लेने लगा है पिछले 1 महीने के घटनाक्रम पर निगाह डालें तो अब किसान सभा नहीं राजनैतिक सभा होने लगी है। ऐसे लोगों को वह फसल खरीद सीजन में सभी छह फसलें न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीदवाकर जवाब देंगे। आढ़ती भाइयों को भी ढाई प्रतिशत कमिशन उनके खातों में पहुंचा दिया जाएगा। सरकार ने फसल खरीद के लिए सभी प्रबंध पूरे कर लिए हैं।

इसके अलावा ऐलनाबाद उप चुनाव के बारे में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि गठबंधन सरकार उपचुनाव के लिए तैयार है। ऐलनाबाद और कालका दोनों सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा बैठक के बाद की जाएगी। डिप्टी CM ने पंजाब में भाजपा के विधायक से हुई मारपीट पर भी प्रतिक्रिया दी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह पंजाब सरकार की विफलता है और वह इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।

खबरें और भी हैं...