पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Health Department Claims 15 Thousand Doses Are Available, Vaccination Center Is Not Ready To Tell

पानीपत में कोरोना वैक्सीनेशन:स्वास्थ्य विभाग का दावा 15 हजार डोज उपलब्ध, वैक्सीनेशन सेंटर बताने को तैयार नहीं, 35% लगवा चुके हैं टीका

पानीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को 1534 लोगों ने कराया वैक्सीनेशन। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को 1534 लोगों ने कराया वैक्सीनेशन।
  • सरकार दे रही वैक्सीनेशन पर जोर, पानीपत के लोगों को नहीं पता कहां लगवाएं टीका

कोरोना की चेन तोड़ने के लिए सरकार वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है। टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित किया जा रहा है, लेकिन पानीपत स्वास्थ्य विभाग को अपने जिले में ही लगने वाले कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या का पता नहीं है। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि उनके पास कोरोना वैक्सीन की 15 हजार डोज उपलब्ध हैं। हालांकि लोगों को नहीं बताया जा रहा कि डोज किस सेंटर पर उपलब्ध हैं। अभी तक जिले के 35% लाभार्थियों को वैक्सीनेट किया जा चुका है।

कोरोना वैक्सीनेशन को बढ़ाकर सरकार महामारी की पाबंदियों में छूट दे रही है। वैक्सीनेशन की संख्या बढ़ाकर रोजाना अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीनेट कराने पर जोर दिया जा रहा है। पानीपत स्वास्थ्य विभाग ने का दावा है कि सरकार की गाइड लाइन के अनुसार उपलब्ध डोज की संख्या को सार्वजनिक नहीं किया जाएगा।

अब उपलब्ध डोज के साथ पानीपत स्वास्थ्य विभाग वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या भी सार्वजनिक नहीं कर रहा है। पानीपत में डोज की किल्लत के चलते बीते कुछ दिनों से केवल शहर में वैक्सीनेशन सेंटर बनाए जा रहे हैं। देहात के लोग वैक्सीन के लिए तरस रहे हैं।

15 हजार डोज है उपलब्ध, सेंटर हर दिन बनते हैं
वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. मनीष पाशी ने दावा किया कि विभाग के पास कोरोना की अभी 15 हजार डोज उपलब्ध हैं। हालांकि वह बुधवार को जिले में लगने वाले कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या और स्थान नहीं बता पाए। उन्होंने कहा कि सेंटरों की संख्या और स्थान दिन के दिन तय किए जाते हैं।

8 लाख लोगों को लगना है टीका
पानीपत में कोरोना वैक्सीनेशन लाभार्थियों की संख्या 8 लाख 8 हजार 860 है। इनमें से अब तक 38% लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। वैक्सीनेशन सेंटर की घटती संख्या और डोज की किल्लत के कारण टीकाकरण की रफ्तार कम हुई है।