• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Increased Difficulties For Ajay And Abhay. Cases Are Registered Against All Three Father And Sons; A Part Of Tejakheda Farm Was Sealed

चौटाला के बाद अजय-अभय की बढ़ी मुश्किलें:तीनों पर आय से अधिक संपत्ति के केस, 2019 में ED कर चुकी तेजाखेड़ा फार्म का हिस्सा सील

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा जिले में बना ओपी चौटाला का तेजाखेड़ा फार्म हाउस जिसका एक हिस्सा 2019 में CBI ने सील कर दिया था - Dainik Bhaskar
सिरसा जिले में बना ओपी चौटाला का तेजाखेड़ा फार्म हाउस जिसका एक हिस्सा 2019 में CBI ने सील कर दिया था

आय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व सीएम ओपी चौटाला को दोषी ठहराए जाने के बाद उनके दोनों बेटों अजय चौटाला और अभय चौटाला की मुश्किलें भी बढ़ती नजर आ रही हैं। दरअसल चौटाला के अलावा इन दोनों पर भी आय से अधिक संपत्ति के केस दर्ज हैं। तीनों पिता-पुत्रों पर CBI ने यह केस उस समय दर्ज किए थे जब केंद्र के अलावा हरियाणा में भी कांग्रेस की सरकार थी। इन्हीं में से एक मामले में ओपी चौटाला को शनिवार को दिल्ली की राउज एवेन्यु कोर्ट ने दोषी करार दे दिया।

2019 में सील हुआ तेजाखेडा फार्म हाउस का एक हिस्सा

पूर्व CM ओपी चौटाला के सिरसा जिले में पड़ते तेजाखेड़ा फार्म हाउस के एक हिस्से को केंद्रीय जांच एजेंसी ED ने 4 दिसंबर 2019 को सील कर दिया था। सुबह 7 बजे कार्रवाई करने पहुंचे ED अधिकारियों के साथ उस समय सीआरपीएफ के जवान भी थे। उसके बाद ED ने पूर्व सीएम की पत्नी स्नेहलता और पुत्रवधू कांता चौटाला की संपत्ति का ब्यौरा भी जुटाया। चौटाला परिवार ने तब पूरी कारवाई को राजनीति से प्रेरित बताया था।

इनेलो के लिए बड़ा झटका

जेबीटी घोटाले में ओपी चौटाला 23 जून 2021 को ही 10 साल की सजा पूरी करके जेल से बाहर लौटे हैं। हालांकि उन्हें इस सजा में दिव्यांगता के कारण छूट भी मिली। दुष्यंत चौटाला के अलग पार्टी बना लेने के बाद ओपी चौटाला के जेल से लौटने के बाद उम्मीद जगी थी कि इनेलो आने वाले दिनों में दोबारा खड़ी हो सकती है लेकिन अब आय से अधिक संपत्ति से जुड़े केस में उनके दोषी करार दिए जाने से पार्टी को बड़ा झटका लगा है।

अधिकतम 7 साल की जेल

चंडीगढ़ के एडवोकेट तरमिंदर सिंह कहते हैं कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में अधिकतम सात साल और न्यूनतम तीन साल की सजा का प्रावधान है। 3 साल की सजा होने पर आरोपी को उसी दिन बेल मिल जाती है। यदि सजा 3 साल से एक भी दिन ज्यादा हो तो जमानत का प्रावधान नहीं है।

दिल्ली की राउज एवेन्यु कोर्ट ने शनिवार को चौटाला को दोषी करार देते हुए मामले की अगली सुनवाई 26 मई तय की है। उसी दिन दोनों पक्षों के वकीलों में सजा की अवधि पर बहस होगी।