पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal(Haryana): Dainik Bhaskar Investigation After The Video Goes Viral Of Upligting The Soil In Paddy Field

हरियाणा में जमीन ऊपर उठने का VIDEO:धान के खेत की मिट्टी अचानक पानी से निकलकर 5 फीट तक ऊपर उठी, किसान ने राख पर बिछवाई थी मिट्‌टी की परत

केदार नाथ शर्मा/करनाल2 महीने पहले
करनाल जिले के कुछपुरा गांव में फूलकर ऊपर उठी मिट्‌टी।

इन दिनों हरियाणा का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इसमें धान के खेत अचानक ऊपर उठते दिख रहा है। करनाल जिले के गांव कुछपुरा की यह घटना जितनी हैरान कर देने वाली है, उतना ही शांति देने वाला इसका जवाब भी है। पता चला है कि इस खेत में राख भरी गई थी, जिसमें मौजूद मिनरल्स बारिश में फूल गए। इसी की वजह से मिट्‌टी अचानक 5 फीट तक ऊपर उठ गई। हालांकि, अब यह जमीन काफी हद तक ठीक भी हो गई है।

खेत का पानी सूखने के बाद मिट्‌टी वापस नीचे बैठ गई है।
खेत का पानी सूखने के बाद मिट्‌टी वापस नीचे बैठ गई है।

जमीन उठने की यह घटना 15 जुलाई को करनाल जिले के गांव कुछपुरा की है। खेत मालिक के भाई ने बताया कि नफे सिंह ने अपनी ढाई एकड़ में से एक एकड़ जमीन से कुछ समय पहले मिट्टी उठवाई थी। इसके बाद यहां करीब 15 फीट तक राइस मिल से निकली हुई राख भरवाकर ऊपर कुछ ही महीने पहले मिट्टी की 3 फीट मोटी परत बिछवा दी। इस पर नफे सिंह ने धान लगवा दिया। दो-तीन लगातार हुई भारी बारिश के बाद यहां मिट्‌टी अचानक ऊपर उठ गई और वहां मौजूद कुछ लोगों ने इसका वीडियो बना लिया।

चौधरी चरण सिंह कृषि अनुसंधान केंद्र कौल के सॉयल साइंटिस्ट डॉ. राजेंद्र कुमार।
चौधरी चरण सिंह कृषि अनुसंधान केंद्र कौल के सॉयल साइंटिस्ट डॉ. राजेंद्र कुमार।

दैनिक भास्कर ने मिट्‌टी ऊपर उठने की वजह जानने के लिए चौधरी चरण सिंह कृषि अनुसंधान केंद्र कौल के सॉयल साइंटिस्ट डॉक्टर राजेंद्र कुमार से बात की। उन्होंने कहा, 'वीडियो में साफ दिख रहा है कि पानी की वजह से जमीन और राख में मौजूद मिनरल्स फूल गए। मिट्टी के कुछ मिनरल्स का ऐसा नेचर होता है, जो पानी जाने से फूल जाते हैं। जैसे ही पानी नीचे चला जाएगा, जमीन खेती लायक हो जाएगी।'

कैमिकल मिक्सिंग से सुरक्षित हो जाती है राख
करनाल के पीडब्ल्यूडी एंड बीआर विभाग के एक्सईएन राजकुमार नैने ने बताया कि थर्मल प्लांट से निकलने वाली राख का इस्तेमाल सीमेंट उद्योग के अलावा ईंटें बनाने, सड़कों और भवन निर्माण में भी किया जाता है। यहां इस्तेमाल की जाने वाली राख इसलिए नहीं फूलती, क्योंकि इसमें कई दूसरे केमिकल मिलाकर इसका इस्तेमाल किया जाता है।

PAU के वैज्ञानिक भी कर रहे जांच
लुधियाना स्थित पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी (PAU) के मिट्‌टी निरीक्षण विभाग के अधिकारी भी इसे लेकर काफी चिंतित नजर आ रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने कहा कि वह इसकी जांच करवा रहे हैं कि राख धरती में डालने से ऐसा कैसे हो सकता है।

खबरें और भी हैं...