पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकार के खिलाफ एनएचएम कर्मियों ने खोला मोर्चा:आंदोलन की योजना तैयार, 22 व 23 जून को होम आइसोलेशन में जाएंगे कर्मचारी

राजधानी हरियाणा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कल प्रदेश सरकार की संवेदना जगाने को करेंगे यज्ञ, रखेंगे मौन

कोरोना संक्रमण में जुटे एनएचएम कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कर्मचारियों ने मांगें न माने जाने पर चरणवार आंदोलन की पूरी योजना बना ली है। एनएचएम हरियाणा संघ की राज्य स्तरीय ऑनलाइन हुई मीटिंग में लिए गए फैसले से सरकार की स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो सकती है।

कर्मचारियों ने निर्णय लिया है कि 22 व 23 जून को वे होम आइसोलेशन में जाएंगे और कोई काम नहीं करेंगे। संघ के प्रदेशाध्यक्ष रेहान रजा ने बताया कि एक जून जिन कर्मचारियों की कोरोना से मौत हुई है, उन्हें श्रद्धांजलि देने के साथ कर्मचारियों के प्रति सरकार की संवेदना जगाने के लिए यज्ञ किए जाएंगे और मौन धारण हागा।

इसके साथ ही एनएचएम एमडी, स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री के नाम सीएमओ को ज्ञापन दिया जाएगा। 2 से 7 जून तक प्रत्येक संस्थान पर गेट मीटिंग होगी। भाजपा जिला अध्यक्ष,भाजपा विधायक व मंत्रियों को ज्ञापन दिया जाएगा। 8 जून से 14 जून तक सहयोग के लिए जनसंपर्क अभियान चलाया जाएगा।

आखिर में दो दिन कर्मचारी होम आइसोलेशन में जाएंगे। रजा ने बताया कि महामारी काल मे कोई आंदोलन नही करना चाहते परंतु बार बार मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री व एनएचएम के अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी उनकी मांगों की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा।

ये हैं मुख्य मांगें

  • एनएचएम कर्मचारियों के सेवा नियम सर्व शिक्षा अभियान की तर्ज पर लागू किए थे। उनकी तर्ज पर वेतन-भत्ते दिए जाएं।
  • सातवें वेतन आयोग का लाभ दिया जाए। सेवा नियमों में संशोधन किया जाए।
  • कैशलेस मेडिकल सुविधा का लाभ दिया जाए।
  • आंदोलन अवधि का वेतन जारी किया किया जाए। कोरोना से जिनकी मृत्यु हुई, उन्हें शहीद का दर्जा देकर घोषित राशि दी जाए।
  • 20 वर्ष तक सेवा कर चुके कर्मचारियों के लिए सेवा सुरक्षा नियम बनाए जाएं। कर्मचारियों की अंतर जिला नियुक्ति की जाए।
खबरें और भी हैं...