सरकार का आखिरी फैसला:अब 25 नहीं, 10 विद्यार्थी तक वाले 281 स्कूल होंगे बंद, विद्यार्थियों और शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में समायोजित किया जाएगा

राजधानी हरियाणा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बजट सत्र में भी विपक्ष ने यह मामला उठाया था। - Dainik Bhaskar
बजट सत्र में भी विपक्ष ने यह मामला उठाया था।

प्रदेश में अब जिन प्राइमरी और मिडल स्कूलों में 10 या इससे कम बच्चे हैं, उन्हें बंद किया जाएगा। इन स्कूलों के विद्यार्थियों और शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में समायोजित किया जाएगा। ऐसे स्कूलों की संख्या 281 स्कूलों पर ताला लगेगा। जबकि 11 से 25 तक की संख्या वाले 776 स्कूलों को एक-एक शिक्षक के साथ संचालित किया जाएगा।

सरकार ने करीब पौने दो माह पहले ऐसे 1057 स्कूलों की रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारियों से मांगी थी, जिनमें 25 से कम बच्चे हैं। निदेशालय ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों से कहा था कि वह यह भी बताए कि इन स्कूलों में कितने ऐसे हैं, जिनके एक किलोमीटर के दायरे में दूसरे स्कूल भी हैं।

इसके बाद सरकार का भी इन 1057 स्कूलों को बंद करने का बयान आया तो हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र में भी विपक्ष ने यह मामला उठाया था। उसी दौरान अधिकारियों ने कहा था कि हमनें अभी कोई भी स्कूल बंद करने का निर्णय नहीं लिया। बल्कि हमने रिपोर्ट मांगी है। सभी स्कूलों की रिपोर्ट मिलने के बाद अब सरकार ने तय किया है कि जिन स्कूलों में 10 या इससे कम बच्चे हैं, उन्हें बंद किया जाएगा। ऐसे में अब प्रदेश में 211 प्राइमरी और 281 मिडल 70 मिडल स्कूल बंद किए जाएंगे।

11 से 25 तक विद्यार्थियों वाले प्रदेशभर के 776 सरकारी स्कूलों को एक-एक शिक्षक से किया जाएगा संचालित

प्राइमरी: 91 स्कूलों में 5 तो 120 में 6 से 10 तक हैं बच्चे

प्रदेश के 743 स्कूलों में 91 स्कूल ऐसे हैं जहां 0 से 5 बच्चे हैं तो 120 में संख्या 6 से 10 तक है। जबकि इन स्कूलों में 325 शिक्षकों की ड्यूटी है। इसलिए ये स्कूल बंद होने से इन शिक्षकों को दूसरी जगह लगाया जाएगा।

मिडल: 50 स्कूलों में 5 तक बच्चे, 20 में 6 से 10 विद्यार्थी

प्रदेश के 25 तक संख्या वाले 314 स्कूलों में 70 में बच्चों की संख्या 10 तक है। इन्हें बंद किया जाएगा। इनमें भी 50 स्कूलों में 5 तक तो 20 स्कूलों में 6 से 10 तक बच्चे पढ़ रहें हैं। इसलिए ये स्कूल बंद होगे।

जिन स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 10 तक है, उन्हें दूसरे स्कूलों में समायोजित किया जाएगा। इससे ज्यादा 25 तक संख्या वाले स्कूलों को एक-एक शिक्षक से चलाएंगे। - कंवरपाल गुर्जर, शिक्षा मंत्री

खबरें और भी हैं...