• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Schools Will Not Open In Haryana From June 1; Summer Vacation Extended Till 15 June, Cases Of Infections Decreasing

कोरोना महामारी से जंग:हरियाणा में 1 जून से स्कूल नहीं खुलेंगे; 15 जून तक बढ़ाई गई ग्रीष्मावकाश, तेजी से घट रहे संक्रमण के मामले

चंडीगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना केस कम हो रहे हैं, लेकिन स्थिति अभी सामान्य नहीं है। - Dainik Bhaskar
कोरोना केस कम हो रहे हैं, लेकिन स्थिति अभी सामान्य नहीं है।

हरियाणा में एक जून से स्कूलों को नहीं खोला जाएगा। प्रदेश सरकार ने स्कूलों में अवकाश की अवधि 15 जून तक बढ़ा दी है। पहले 31 मई तक छुटि्टयां घोषित थी। शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने बताया कि अभी प्रदेश में कोरोना के रोजाना 2 हजार से अधिक केस आ रहे हैं। संक्रमण कम हुआ है, लेकिन स्थिति सामान्य नहीं हुई है। इसलिए यह निर्णय लिया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग को इस बाबत निर्देश दिए गए हैं।

2287 नए केस मिले, 111 लोगों ने दम तोड़ा
प्रदेश में कोरोना संक्रमण अब तेजी से घट रहा है। 24 घंटे में ही 18.78% नए केसों में कमी आई है। मात्र 2287 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। राहत की बात यह भी है कि प्रदेश में 56 दिनों के बाद रिकवरी रेट भी 95% को पार कर गई है। मौतों की संख्या में भी गिरावट आई है, लेकिन अब भी हर दिन 100 से ज्यादा मरीज दम तोड़ रहे हैं। एक दिन में 111 मरीजों की सांसें वायरस ने रोक दी हैं।

अब तक प्रदेश में 7 लाख 49 हजार 441 लोग संक्रमण के शिकार हो चुके हैं। इनमें 8633 की जान चली गई है। दूसरी तरफ, 5679 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद अब प्रदेश में कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले भी 7 लाख 13 हजार 934 हो गए हैं। प्रदेश में अभी पॉजिटिविटी रेट 8.43% है। एक्टिव मरीज भी 26 हजार 874 रह गए हैं।

वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने के करीब पहुंचा
प्रदेश में युवाओं के लिए कोरोना वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने के करीब पहुंच गया है। इस वर्ग के लिए करीब 50 हजार वैक्सीन बची हैं, जो सिर्फ एक दिन चल सकती हैं। तीन जिलों पानीपत, कैथल और पलवल में स्टॉक खत्म होने के चलते 18+ का टीकाकरण बंद हो चुका है। वहीं, 9 जिलों में तीन हजार से कम डोज बची हैं। 18+ के लिए अगली खेप कब आएगी, यह स्पष्ट नहीं है।

प्रदेश में 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी पड़ चुकी है। 2.86 करोड़ आबादी में से सिर्फ 19% लोगों को टीका लगा है। दोनों डोज महज 4% आबादी को ही लगी हैं। विशेषज्ञों के अनुसार संक्रमण पर काबू पाने के लिए 70% आबादी काे दोनों डोज लगना जरूरी है। अगर यही रफ्तार रही तो प्रदेश की पूरी आबादी को पहली डोज देने में 19 माह लगेंगे। सभी को दोनों डोज लगाने में 7 साल 4 महीने लग जाएंगे।

शॉर्टेज के बारे में पूछने पर एनएचम के एमडी प्रभजोत सिंह ने कहा कि 18+ के लिए केंद्र से वैक्सीन मांगी है। कंपनियों को ऑर्डर दे रखा है। कोटा केंद्र ही अलॉट करता है। उम्मीद है जल्द वैक्सीन मिलेगी।