संक्रमण से युद्ध:कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में प्रदेश सरकार एक्शन मोड में, जंग में जुटेंगे डॉक्टरी कर चुके आईएएस-आईपीएस अधिकारी

राजधानी हरियाणा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री मनोहर लाल - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री मनोहर लाल - फाइल फोटो
  • सीएम बोले- रोहतक में 150 बेड चालू, फरीदाबाद में बंद मेडिकल कॉलेज टेक ओवर

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में प्रदेश सरकार एक्शन मोड में है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अफसरों की भी मरीजों के इलाज में मदद ली जाएगी। मेडिकल स्टूडेंट्स भी इस काम में लगाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि नए अस्पतालों में गैस सप्लाई का नेटवर्क तैयार किया जा रहा है। बेड बढ़ाए जा रहे हैं।

रोहतक में 150 बेड चालू कर दिए। फरीदाबाद में बंद मेडिकल कॉलेज टेक ओवर किया है। वहां सेना के डॉक्टर व स्टाफ काम करेंगे। गुड़गांव में प्राइवेट संस्था अपने गेस्ट हाउस में बेड की व्यवस्था कर रही हैं। उन्होंने कहा कि हर परिवार को फर्स्ट एड का प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि किसी भी परिस्थिति का सामना किया जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि रिफिलिंग में छोटी-छोटी इंडस्ट्री की भी मदद ले रहे हैं। 5 को लाइसेंस दे दिया है। 5-7 कोदे रहे हैं। नाइट्रोजन सप्लाई करने वाले टैंकरों में ऑक्सीजन सप्लाई करेंगे। गैस सप्लाई के लिए एलपीजी सिलेंडरों में भी कोई जुगाड़ करने का सुझाव मिला है।

यूके और अमेरिका से कंसंट्रेटर की पेशकेश है। जो जल्द एअर लिफ्ट किए जाएंगे। 18 वर्ष से ऊपर के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए 250 करोड़ की 50 लाख डोज का ऑर्डर दिया है। 30 अप्रैल तक रजिस्ट्रेशन में पता लग जाएगा कि कितने लोग आगे आए हैं। अभी सीएचसी, पीएचसी, डिस्पेंसरी और संस्थाओं के अस्पतालों में वैक्सीन लगाई जाएगी।

लाॅकडाउन नहीं, मैक्रो कंटेनमेंट जोन बनेंगे: मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी डीसी को धारा-144 लगाने को कहा है। प्रदेश में लॉकडाउन नहीं लगेगा। लेकिन, पूरी सख्ती के साथ मैक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जा रहे हैं। कुछ दिन से नए केस 11 से 12 हजार के बीच ठहरे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मरीज अंबाला तक भर्ती हैं। इसलिए दबाव भी है।

वातावरण को पॉजिटिव रखना जरूरी: मुख्यमंत्री ने कहा कि यह समय समाज, संस्था, सरकार, विपक्ष सभी के मिलकर लड़ने का है। अभी स्थिति कंट्रोल में है। सभी को मिलकर मुकाबला करते हुए आगे बढ़ना है। राजनीति या अन्य मतभेद दूर रखने चाहिए। हालांकि, कुछ विपक्ष के साथ, संस्थाएं और वॉलिंटियर के मदद के लिए फोन भी आ रहें हैं। वे नया अस्पताल शुरू करना चाहते हैं। लेकिन ऑक्सीजन का प्रबंध होते ही इन्हें शुरू कर देंगे। सीएम ने कहा कि वातावरण को पॉजिटिव रखना चाहिए। समाज से अपील है कि एकजुट होकर सहयोग दें।

मदद के लिए आगे आईं निजी कंपनियां, मेडिकल उपकरण से करेंगी सहायता

कोरोना संकट से निपटने के लिए कई कंपनियां प्रदेश के साथ खड़ी हुई हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करीब डेढ़ दर्जन कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत कर उनसे सहयोग की अपील की है। इसके बाद कई कंपनियाें ने सहयोग के लिए हाथ आगे बढ़ाया है।

कुछ कंपनियाें ने कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल तैयार करने, ऑक्सीजन व ऑक्सीजन-कंसंट्रेटर, ऑक्सीजन जनरेटर देने की पेशकश की है। वहीं, कई कंपनियों ने ऑक्सीमीटर, मास्क, सेनिटाइजर व अन्य मेडिकल उपकरण देने के लिए सहमति दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना का फैलाव अलॉर्मिंग स्तर पर पहुंच गया है, उनके लिए प्रदेश का हर व्यक्ति महत्वपूर्ण है।

वीसी में गुड़गांव, दिल्ली व देश के अन्य हिस्सों से हीरो-मोटोकॉप, ए-3एम, डीएलएफ लिमिटेड, पॉवर फाइनेंस कॉरपोरेशन, होंडा मोटरसाइकिल, मिंडा-ग्रुप, इफको टोकियो जनरल इंश्याेरेंश कंपनी लिमिटेड, विवेकानंद आरोग्य केंद्र समेत अनेक कंपनियों के प्रतिनिधियों जुड़े।

इन सभी प्रतिनिधियों ने हरियाणा सरकार को मेडिकल उपकरणों के अलावा अन्य आर्थिक सहायता देने का भी आश्वासन दिया है। सीएम मनोहर लाल ने कहा कि सभी कोरोना की गाइडलाइन का पालन करें, क्योंकि इन हालातों पर काबू पाने के लिए आमजन का सहयोग जरूरी है। उन्होंने प्रदेश के हर व्यक्ति से इस बुरे दौर में एक-दूसरे की मदद के लिए आगे आने की अपील की है।

खबरें और भी हैं...