• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Task Force Will Be Formed In Every District Of Haryana For Cow Protection, Notification Issued

हरियाणा में गौ-रक्षा के लिए STF:हर जिले में बनेगी 11 सदस्यों की टीम, डीसी के नेतृत्व में पुलिस और गौ-सेवक होंगे शामिल; नोटिफिकेशन जारी

हिसार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गौरक्षा टास्क फोर्स बनाने का मकसद मवेशियों की तस्करी और गौकशी को रोकना है। गौशाला में गायों को चारा खिलाते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
गौरक्षा टास्क फोर्स बनाने का मकसद मवेशियों की तस्करी और गौकशी को रोकना है। गौशाला में गायों को चारा खिलाते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर। (फाइल फोटो)

हरियाणा सरकार ने गौ रक्षा के लिए एक कदम और बढ़ा दिया है। अब हर जिले में काऊ टास्क फोर्स का गठन किया जाएगा। इस बारे में नवंबर 2020 में फैसला लिया गया था। अब इस फैसले का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अब टास्क फोर्स का गठन शुरू कर दिया जाएगा। इसके तहत जिला स्तर पर 11 सदस्यीय स्पेशल काऊ टास्क फोर्स बनाई जाएगी।

इस टास्क फोर्स में सरकारी और गैर-सरकारी सदस्य शामिल होंगे, जिनमें पुलिस, पशुपालन, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अधिकारी, गौ-सेवा आयोग, गौ-रक्षक समितियों के सदस्य और 5 गौ-सेवक शामिल होंगे। टास्क फोर्स बनाने का मुख्य उद्देश्य राज्यभर में मुखबिरों और उनके खुफिया नेटवर्क के माध्यम से मवेशियों की तस्करी और गौकशी के बारे में जानकारी जुटाना और मुखबिरों से मिली जानकारी के बाद अवैध गतिविधियों पर तुरंत कार्रवाई करना है। टास्क फोर्स से पहले हरियाणा सरकार गौ-संवर्धन एक्ट भी लागू कर चुकी है। इसके तहत गौ-तस्करी के मामले में उम्रकैद तक की सजा का प्रावधान है।

स्टेट लेवल पर गौसेवा आयोग के चेयरमैन के नेतृत्व में काम करेंगी टास्क फोर्स

हरियाणा गौसेवा आयोग के उपाध्यक्ष विद्यासागर बाघला ने बताया कि राज्यस्तर पर ये टास्क फोर्स गौसेवा आयोग के चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग के नेतृत्व में काम करेंगी। जिला स्तर पर इस टास्क फोर्स के प्रमुख डीसी होंगे। जिला स्तर पर इस टास्क फोर्स के सदस्यों में एसपी, एडीसी और पशुपालन विभाग के उपनिदेशक शामिल रहेंगे।

इस टास्क फोर्स का मुख्य काम बेसहारा गायों की देखरेख करना, उन्हें गौशाला तक पहुंचाना और गौवंश की तस्करी को रोकना होगा। प्रदेश में मनोहर सरकार ने गौवंश की तस्करी रोकने के लिए गौ-संवर्धन एक्ट बना रखा है। गौ तस्करों को पकड़ने और गौवंश की तस्करी रोकने के लिए ये टास्क फोर्स अलग-अलग योजनाएं बनाकर काम करेगी।

बाघला ने बताया कि हरियाणा में भाजपा सरकार के शासनकाल में कई गौ-अभ्यारण्य बनाए गए हैं और जरूरत के अनुसार इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी। प्रदेश में गौसेवा आयोग के गठन के बाद सड़कों पर घूमने वाले 2 लाख से ज्यादा गौवंश को गौशालाओं में पहुंचाया जा चुका है। गौवंश को गौशाला पहुंचाने का काम लगातार चल रहा है और आगे भी चलता रहेगा।

साउथ हरियाणा के चार जिलों में पुलिस की गौरक्षा टीमें : आईजी

हरियाणा में साउथ रेंज रेवाड़ी के आईजी विकास अरोड़ा का कहना है कि उन्हें टास्क फोर्स की जानकारी तो नहीं है मगर पुलिस महकमे ने साउथ हरियाणा के चारों जिलों- रेवाड़ी, नारनौल, नूहं और पलवल-में गौरक्षा के लिए टीमें बना रखी हैं। हर जिले में इस टीम का इंचार्ज इंस्पेक्टर या सब इंस्पेक्टर रैंक के अफसर बनाया गया है। इन टीमों का काम गौ-तस्करों का पकड़ना है।

खबरें और भी हैं...