पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • The Dispute Was Settled By The Khap Panchayats, A Settlement Was Made Between Both The Parties: The Village Boycotted The Farmer Family After Attending The Rally Of The Former Minister

हिसार में किसान परिवार के सामाजिक बहिष्कार का मामला:खाप पंचायतों ने दोनों पक्षों में करवाया समझौता, पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु की रैली में शामिल होने पर गांव ने किया था विरोध

हिसार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पंचायत में मौजूद खापों के प्रधान। - Dainik Bhaskar
पंचायत में मौजूद खापों के प्रधान।

हिसार : हांसी के गांव डाटा में किसान परिवार के सामाजिक बहिष्कार प्रकरण को खापों द्वारा खत्म करवा दिया गया है। इस बारे में सोमवार को गांव डाटा के चबूतरे पर खापों द्वारा पंचायत का आयोजन किया गया जिसके बाद इस विवाद को निपटाते हुए दोनों पक्षों में समझौता करवा दिया गया। समझौते के बाद दोनों पक्षों ने एक दूसरे के गले मिलकर बधाई दी। खापों ने इस बहिष्कार को गलत फैसला बताया और दोनों पक्षों को गांव में भाईचारा बनाए रखने की सलाह दी जिसको सभी ने मान लिया। ज्ञात रहे कि गांव डाटा का किसान सुरेश उर्फ लाला पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु द्वारा निकाली गई तिरंगा यात्रा में अपना ट्रैक्टर व कंबाइन लेकर शामिल हुआ था जिसके बाद गांव की पंचायत ने उसका सामाजिक बहिष्कार कर दिया था। बहिष्कार करने वालों के खिलाफ पीड़ित सुरेश की शिकायत पर केस दर्ज किया गया था।

पंचायत का दृश्य
पंचायत का दृश्य

बहिष्कार और केस दर्ज होने के बाद गांव में दोनों पक्षों के बीच तनातनी का माहौल बना हुआ था। इसी को देखते हुए सोमवार को रोघी खाप, सतरोल खाप, सातबास खाप, पूनिया खाप, पंचग्रामी खाप द्वारा पंचायत का आयोजन किया गया। इस पंचायत में दोनों पक्षों को बुलाकर पूरे प्रकरण के बारे में जानकारी ली गई व पक्षों को सुना गया। पूरे विवाद को सुनने के बाद पंचायत ने फैसला सुनाया कि किसान सुरेश उर्फ लाला के बहिष्कार का फैसला पूरी तरह से गलत था व जल्दबाजी में लिया गया फैसला था जिसके लिए पंचायत दोषी है, वहीं सुरेश उर्फ लाला को भी पूरे गांव की बात मानकर रैली में शामिल होने से परहेज करना चाहिए था। इसके बाद खापों ने बहिष्कार को खारिज करवा दिया। इसके बाद दोनों पक्षों को गले मिलाकर विवाद को खत्म करवा दिया गया। इस प्रकरण के बारे में पीड़ित किसान सुरेश उर्फ लाला ने बताया कि वह इस विवाद के खत्म हो जाने से खुश है। गांव में भाईचारा ही बड़ी चीज है। उसकी तरफ से जो केस दर्ज करवाया गया है, उसको वह वापस ले लेगा।

11 अगस्त को पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु द्वारा निकाली गई तिरंगा यात्रा गांव डाटा के किसान सुरेश उर्फ लाला द्वारा यात्रा में शामिल होने पर गांव ने सामाजिक बहिष्कार कर दिया था। सुरेश के साथ इस तिरंगा यात्रा में शामिल होने वाले अन्य 8 किसानों पर भी 5100-5100 रुपए का जुर्माना लगाया गया था।

खबरें और भी हैं...