बनाई जाएंगी कमेटियां:पराली जलाने की घटनाओं का होगा फिजिकल वेरिफिकेशन

हरियाणा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पराली जलाने की घटनाओं की फिजिकल वेरिफिकेशन किया जाएगा। यही नहीं इसकी प्रतिदिन रिपोर्ट भेजी जाएगी। धान की फसल के अवशेषों के प्रबंधन के लिए स्थानीय स्तर पर कमेटियां बनेंगी। यह निर्देश सीएम मनोहर लाल ने गुरुवार को जारी किए। वे गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक में सभी जिलों के डीसी को संबोधित कर रहे थे। सीएम ने कहा कि विभागों, निगमों, सोसायटी एवं कमेटियों की बैठक निर्धारित समय अवधि में नियमित रूप से करें।

सीएम ने कहा कि जलभराव वाले क्षेत्रों में से पानी की निकासी जल्द से जल्द कराई जाएगी, ताकि प्रदेश के किसान समय से अगली फसल की बिजाई कर सकें। यदि जरूरत हो तो और पंपों की व्यवस्था करें ताकि समय से खेतों में से पानी निकाला जा सके। जल निकासी के बाद पानी ड्रेन में डालने की बजाए रिचार्जिंग के लिए इस्तेमाल किया जाए।

उन्होंने मंडियों में बारदाना, लिफ्टिंग और लेबर आदि की कोई समस्या न आना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। बाजरे की फसल पर दी जाने वाली भावांतर योजना का लाभ छोटी जोत के किसानों को प्राथमिकता से दिए जाने के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने भावांतर भरपाई की राशि जल्द से जल्द किसानों के खातों में जमा करने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि बरसात के कारण टूटी सड़कों की रिपेयर जल्द से जल्द करें। साथ ही उन्होंने सिंघु और टिकरी बॉर्डर के आस-पास की लिंक सड़कों को भी जल्द से जल्द रिपेयर करने के लिए भी कहा।

खबरें और भी हैं...