पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फीका पड़ा टीकाकरण:6 जिलों में वैक्सीन खत्म, 2 में सिर्फ दूसरी डोज के लिए स्टॉक

हरियाणा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना की तीसरी लहर से पहले वैक्सीनेशन में तेजी की बात कही जा रही है, लेकिन प्रदेश में वैक्सीनेशन अभियान धीमा पड़ता जा रहा है। इसकी मुख्य वजह वैक्सीन की कमी है। प्रदेश सरकार 3 लाख वैक्सीन का स्टॉक होने का दावा कर रही है, लेकिन भास्कर पड़ताल में हकीकत कुछ और ही दिखी।

विभिन्न जिलों से जुटाए गए आंकड़ों में सामने आया कि छह जिलों में वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो चुका है। इनमें फरीदाबाद, हिसार, सिरसा, करनाल, सोनीपत और महेंद्रगढ़ शामिल हैं। जबकि, भिवानी व रोहतक में वैक्सीन का स्टॉक सिर्फ दूसरी डोज वालों के लिए बचाया गया है। वैक्सीन की कमी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले दो दिनों से वैक्सीनेशन की रफ्तार काफी नीचे आ गई है।

बुधवार को 37 हजार लोगों को टीका लगा, जबकि मंगलवार को 68 हजार को टीका लगा था। सोमवार को 1 लाख से अधिक को टीका लगा था। 21 जून को मेगा वैक्सीनेशन-डे वाले दिन 6.27 लाख लोगों ने टीका लगवाया था।

कई जिलों में स्टॉक खत्म होने के कगार पर

बुधवार की स्थिति के अनुसार, कई जिलों में स्टॉक तो था, लेकिन वह भी खत्म होने की कगार पर है। नया स्टॉक कब आएगा, इसकी कोई सूचना नहीं है। भिवानी में 130, रेवाड़ी में 650 डोज ही बची हैं। पानीपत में पहला टीका लगवाने वालों के लिए सिर्फ 400 डोज बची हैं। जींद में सिर्फ गुरुवार तक का ही स्टॉक बचा है। अगर यहां स्टॉक समय पर नहीं आता है तो शुक्रवार से टीकाकरण बंद हो जाएगा।

28 प्रतिशत आबादी को ही लगी पहली डोज

प्रदेश में अब तक 79.67 लाख लोगों को पहली, जबकि 16.49 लाख को दूसरी डोज लग चुकी है। आबादी के लिहाज से अब तक 27.85 प्रतिशत को पहला टीका लग चुका है। जबकि सेकंड डोज सिर्फ 5.76 प्रतिशत आबादी को ही लग पाई है। वैक्सीनेशन के मामले प्रदेश में गुड़गांव टॉप पर चल रहा है। यहां सबसे ज्यादा 12.39 लाख लोग कम से कम एक डोज लगवा चुके हैं।

खबरें और भी हैं...