पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्जीवाड़ा या लापरवाही:इनकम टैक्स भरने वाले 2434 ने लिया लाभ, अब 2.32 करोड़ की होगी रिकवरी

जींदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जींद. जींद में कृषि विभाग कार्यालय। - Dainik Bhaskar
जींद. जींद में कृषि विभाग कार्यालय।
  • कृषि विभाग की जांच में हुआ खुृलासा, अब विभाग रिकवरी के लिए अपात्रों को भेजेगा नोटिस

केंद्र सरकार ने छोटे किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना शुरू की थी, लेकिन इसका फायदा इनकम टैक्स (आईटीआर) भरने वाले जमीन मालिक किसानों ने भी उठा लिया। जांच के बाद मामले का खुलासा हुआ है। यह फर्जी तरीके से किया गया है या फिर लापरवाही से हुआ है, इसका खुलासा होना बाकी है। फिलहाल जांच मेें जिले के 2434 किसान ऐसे मिले हैं, जो इनकम टैक्स भरने के बावजूद इस योजना का लाभ उठा रहे थे। नियम के मुताबिर ऐसे लोग योजना में पात्र नहीं हैं।

जिले के अब ऐसे 2434 किसानों से सरकार द्वारा 2 करोड़ 32 लाख 56 हजार रुपए की रिकवरी की जाएगी। इसके लिए आगामी सप्ताह पर प्रत्येक किसान को नोटिस जारी किए जाएंगे। नोटिस जारी करने के साथ ही किसान को दिल्ली स्थित संबंधित विभाग के कार्यालय का पत्ता देकर उक्त एड्रेस पर ही रिकवरी राशि का डीडी बनाकर भेजने के निर्देश दिए जाएंगे।

जिले में सबसे ज्यादा जींद ब्लाॅक के 565 किसान सामने आए हैं, जो आईटीआर भरने के बावजूद इस योजना का लाभ उठा रहे थे और उनके खातों में अब तक लगभग सभी किस्तें भी आ चुकी हैं। कृषि विभाग को मुख्यालय से इन किसानों के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई को लेकर गाइडलाइन आ गई है और इन सभी को रिकवरी के लिए नोटिस जारी किए जाएंगे।

1 लाख 53 हजार 808 किसान रजिस्टर्ड

जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 1 लाख 53 हजार 808 किसान रजिस्टर्ड हैं। इनमें से 94 हजार 883 किसानों के खातों में अब तक सभी 8 किस्तें जा चुकी हैं। इसके अलावा 6 हजार 459 किसान ऐसे हैं, जिनके खातों में किस्तें गई हैं। इनमें किसी के खाते में एक, दो, पांच या फिर सात किस्तें गई हैं।

2151 किसानों के कागजात में दिक्कत

जिले के 2151 किसान हैं, जो रजिस्टर्ड तो हैं, लेकिन उनके खातों को लेकर किसी न किसी प्रकार की दिक्कत है। इसमें किसी ने आधार कार्ड नहीं लगाया है तो किसी ने अपना अकाउंट नंबर गलत दिया हुआ है। किसी ने किसान क्रेडिट कार्ड का नंबर दिया है तो किसी के अन्य कागजातों में दिक्कत है।

जो लोग इनकम टैक्स भरते हैं, वह प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे थे। वह इसके पात्र नहीं हैं। इन लोगों को नोटिस भेजकर रिकवरी की जाएगी। सुनील दलाल, तकनीकी सहायक, कृषि विभाग, जींद।

जानिए : क्या है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना छोटे और सीमांत किसानों को ध्यान में रखकर मोदी सरकार ने शुरू की थी। इस योजना के तहत 1 साल में 3 किस्तों में किसानों को सरकार 6 हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करती है। हर 4 महीने में किसानों के अकाउंट में 2 हजार रुपए ट्रांसफर किए जाते हैं। अब तक किसानों के अकाउंट में 8 किस्तों में पैसे भेजे जा चुके हैं।

इनको मिलता है योजना का लाभ

पीएम किसान सम्मान निधि के तहत केवल उन्हीं किसानों को इसका फायदा मिलता है जिनके पास 2 हेक्टेयर यानी 5 एकड़ कृषि योग्य खेती हो। अब सरकार ने जोत की सीमा को खत्म कर दी है। खेती योग्य जमीन जिसके नाम से हैं, उन्हीं को पैसे मिलते हैं। लेकिन अगर कोई इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करता है तो उसे पीएम किसान सम्मान निधि से बाहर रखा गया है। इसमें वकील, डॉक्टर, सीए आदि भी इस योजना से बाहर हैं।

खबरें और भी हैं...