• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Jind
  • 97 year old Ratan Singh Drank The Decoction And 92 year old Kaushalya And Ompati Defeated Corona By Staying At Home

हौसलों की जीत:97 साल के रतन सिंह ने काढ़ा पीकर तो 92 साल की कौशल्या व ओमपति ने घर पर ही रहकर कोरोना को दी मात

जींदएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मन की हारे हार, मन की जीते जीत अगर दिल में हौसला बना रहे तो कोई भी बीमारी पर विजय पाना मुश्किल नहीं है। पॉजिटिव होने पर सबसे उम्रदराज श्रेणी के लोगों ने भी हौसले के बलबूते कोरोना महामारी को मात देकर नई पीढ़ी के लिए सीख दी है। पंजाब के संगरूर जिले के गांव अंदाना निवासी 97 वर्षीय रतन सिंह ने जहां घर पर आइसोलेट होकर काढ़ा पीकर कोरोना को हरा दिया वहीं जींद की 92 वर्षीय बुजुर्ग महिला कौशल्या व ओमपति भी बुढ़ापे में कोरोना के साथ खूब लड़ी और आखिरकार स्वस्थ हो गईं।

दैनिक भास्कर ने अब तक जिले में मिले कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सूची में जिंदगी के अंतिम पड़ाव वाले कोरोना योद्धाओं को ढूंढ निकाला, जो अपने जज्बे व नियमों का पालन कर महामारी से बच पाए। ऐसे में अब युवाओं व अधेड़ उम्र के लोगों को भी ऐसे बुजुर्गों के हौसले से प्रेरित होकर कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है।

हां सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। अब तक स्वास्थ्य विभाग के सामने 86 साल से लेकर 97 साल तक के करीब 33 बुजुर्ग मरीज ऐसे सामने आए हैं जो कोरोना संक्रमित होने के बाद स्वस्थ हो गए। इनमें ज्यादातर ने अपने घर पर ही रहकर कोरोना को मात दी है।

इन बुजुर्गाें ने काेराेना काे दी मात

स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार 86 साल से 97 साल तक के करीब 33 बुजुर्ग कोरोना से पीड़ित हुए, जो बाद में स्वस्थ हो गए। इनमें गांधी नगर जींद निवासी कौशल्या 92, भागखेड़ा निवासी बारूराम 92, कैरखेड़ी निवासी पिरथी 92, जींद निवासी धर्मिला 91, अंदाना निवासी रतन सिंह 97, रामनगर जींद निवासी ओमपति 92 के अलावा सफीदों निवासी फुल्ली देवी 90, खीमाखेड़ी निवासी खेमचंद 86, जींद निवासी संतराम अरोड़ा93, नरवाना निवासी सीता बाई 90, जींद अर्बन एस्टेट निवासी रजिया 90, जींद निवासी चतर सिंह 86 शामिल हैं।

रिकवरी दर 93 प्रतिशत से अधिक पहुंचा

कोरोना से युवाओं से लेकर बुजुर्ग भी संक्रमित हुए हैं। विभागीय आंकड़ों के मुताबिक 33 बुजुर्ग तो जीवन के अंतिम पड़ाव वाले थे, जिन्होंने हौसला बनाए रखा और दवा व अन्य खानपान लेकर नियमों का पालन करते हुए स्वस्थ हो गए। ऐसे में कोरोना संक्रमितों को डरने की जरूरत नहीं बल्कि हौसला बनाए रखें और डाॅक्टरों की सलाह मानें तो जल्द ठीक हो जाएंगे। जिले में रिकवरी दर 93 प्रतिशत से अधिक पहुंच गया है। डाॅ. पालेराम कटारिया, डिप्टी सीएमओ एवं नोडल अधिकारी, कोविड 19

खबरें और भी हैं...