अपहरण कर वसूले 7 लाख:जींद में साथ काम करने वालों पर ही अगवा करने का आरोप, गुरुग्राम में रखा बंधक

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो

ऑनलाइन सट्‌टा खाईवाल के काम में संलिप्त घनश्याम का अपहरण कर 7 लाख रुपए वसूलने का मामला दर्ज हुआ है। साथ काम करने वाले कुछ लोग उसे बंधक बनाकर गुरुग्राम ले गए थे। उससे 30 लाख रुपए और मांगे गए, लेकिन वह होटल से चकमा देकर फरार हो गया। सिविल लाइन पुलिस मामले की जांच कर रही है।

हनुमान नगर निवासी घनश्याम ने थाना सिविल लाइन को दी शिकायत में बताया कि अर्बन एस्टेट में किराये पर मकान लेकर रहता है। वह ऑनलाइन सट्टा खाईवाल का बिजनेस करता है। हिसार निवासी मनीष, उत्तरप्रदेश निवासी अभय, दिल्ली निवासी हरीश और रामकली निवासी प्रवीण भी उसके साथ रह कर यही काम करते हैं।

पिस्तौल दिखा गाड़ी में डाला

ओमनगर निवासी अतुल सैनी भी उन्हीं के कारोबार में है। वह 18 नवंबर को रात करीब 1:00 बजे उनके पास आया और वहीं सो गया। अतुल अगले दिन सुबह करीब 5 बजे बाहर चला गया। कुछ देर बाद वह बहादुरगढ़ निवासी आनंद, जींद सचिन और अमन चौधरी के साथ लौटा। फिर वे उसे और दोस्त मनीष को पिस्तौल के बल पर गाड़ी में डाल कर ले गए।

एक करोड़ से 10 लाख पर आए

अतुल सैनी और उसके साथी उसे बंधक बनाकर गुरुग्राम ले गए और वहां मोंटी के घर रखा। इससे पहले रास्ते में उसे छोड़ने के बदले 1 करोड़ रुपए की मांग की। फिर 70 लाख और बाद में 50 लाख रुपए मांगे। वह उन दोनों को गुरुग्राम में अतुल सैनी अपने दोस्त मोंटी के घर ले गए। उसे मोंटी के घर अभय, हरीश व प्रवीण पहले ही एक कमरे में बैठे मिले। फिर अपहरण करने वालों ने 10 लाख रुपए की चौथ मांगी।

होटल से चकमा देकर भागा

घनश्याम का कहना है कि जींद में बात करके उसने 7 लाख रुपए अमन चौधरी के जानकार को दिला दिए। 20 नवंबर दोहपर को पांचों उसे गुरुग्राम के एक होटल में ले गए। वहां पर जाकर फिर से 30 लाख रुपए की मांग की। वह किसी तरह उनको चकमा देकर होटल से बाहर निकल गया। थाना सिविल लाइन के जांच अधिकारी एसआई अमृत लाल ने बताया कि अतुल सैनी, अमन चौधरी, सचिन और आनंद को नामजद कर उनके खिलाफ अपहरण करने, चौथ वसुलने, जान से मारने की धमकी देने सका मामला दर्ज किया है।

खबरें और भी हैं...