शहर के पार्कों को सुधारने की कवायद:रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन को नगर परिषद देगा शहर के पार्कों का जिम्मा

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जींद. गोहाना रोड पर स्थित पार्क, जिसकी हालत खराब है। - Dainik Bhaskar
जींद. गोहाना रोड पर स्थित पार्क, जिसकी हालत खराब है।
  • पिछले दो साल से शहर के पार्कों की हालत हो चुकी है खराब

पिछले 2 साल से शहर के पार्कों की हालत दयनीय हो चुकी है। इन पार्कों की हालत सुधारने के लिए नगर परिषद द्वारा इन्हें शहर की रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन के सुपुर्द करने का निर्णय लिया है। जो-जो एसोसिएशन इनके रखरखाव के लिए आगे आएंगी, उन्हें उनके आसपास के पार्कों की जिम्मेदारी की दी जाएगी। नगर परिषद द्वारा इन एसोसिएशन को हर साल निर्धारित राशि दी जाएगी। इसके लिए नगर परिषद द्वारा प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और जल्द ही सभी पार्क आरडब्ल्यूए को सौंप दिए जाएंगे।

नगर परिषद के शहर में लगभग 100 के करीब पार्क हैं, लेकिन अधिकतर पार्कों की हालत खराब है। केवल चुनिंदा पार्क ऐसे हैं, जहां पर माली द्वारा इनका रखरखाव किया जाता है। हुडा काॅलोनियों के अधीन आने वाले लगभग 50 से अधिक पार्क भी नगर परिषद को दिए गए हैं, लेकिन पिछले दो साल से इन पार्कों की हालत खराब है। हुडा पार्कों की तो लंबे समय से कोई सुध नहीं ली गई है।

ऐसे में पार्कों में झूले, बेंच व अन्य हालत काफी खराब हो चुके हैं। कई पार्कों की दीवारें तक टूट चुकी है। इसके चलते बरसात के दौरान सारा पानी पार्कों में जमा हो जाता है। बरसात के दिनों में तो पार्क घूमने लायक तक नहीं बचते हैं। ग्रीन बेल्ट की हालत भी काफी खराब हो चुकी है। अब रेजिडेंट्स वेलफेयर एसो. इनका रखरखाव कर सकेंगी।

दो साल से बैठक में लटका रहा पार्कों का मामला

पिछले दो साल से पार्कों का मामला हाउस की बैठकों में लटके रहे। दो साल में चार बार पार्कों को लेकर प्रस्ताव पारित किए गए। इसमें पार्कों के रखरखाव का जिम्मा एसोसिएशन को देने का फैसला पहले भी हुआ था, लेकिन अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका था।

पार्कों की दशा सुधरेगी : बिश्नोई

शहर के पार्कों की जिम्मेदारी आरडब्ल्यूए को दी जाएगी। इसकी प्रक्रिया शुरू की जा रही है। इससे पार्कों की दशा सुधर जाएगी। बजट आरडब्ल्यूए को उपलब्ध करवाया जाएगा।

संजय बिश्नोई, जिला नगर आयुक्त, जींद।

खबरें और भी हैं...