पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गावों में फैला कोरोना:अप्रैल से खतरनाक मई, 4 महिलाओं सहित 7 की मौत व 374 केस, 7 दिन में ही गई 96 की जान

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुल 285 में 115 मरने वाले ग्रामीण, 40 फीसदी केस यहीं से, रिकवरी रेट 76.79 पहुंचा

इस बार कोरोना की रफ्तार दिन प्रतिदिन बढ़ने के साथ और खतरनाक होती जा रही है। खास बात यह है कि इसबार कोरोना शहरों के साथ गांवों में तेजी से पांव पसार रहा है। यहां केसों की संख्या बढ़ने के साथ मौत का आंकड़ा भी पिछले साल की तुलना में कई गुना बढ़ा है।

जिले में अबतक हुई कुल कोरोना से हुई 285 मौत(एक दूसरे राज्य का व्यक्ति शामिल) में 115 ग्रामीण क्षेत्र में हुई है। इसमें 80 फीसदी मौत इस साल हुई है। औसतन 4 से 5 मौत ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की हो रही है। शुक्रवार को कोरोना से 7 लोगों की मौत हो गई, जिसमें से 4 ग्रामीण क्षेत्र में हुई है। इसके साथ 1108 लोगों की रिपोर्ट में 374 लोग पॉजिटिव मिले हैं। जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 14828 तक पहुंच चुकी है। इस बार आए केसों में 40 फीसदी केस गांवों में मिल रहे हैं।

मई में रोजाना 14 मौत

मई के 7 दिन में ही अकेले 96 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले साल दिसंबर तक 85 लोगों की कोरोना से मौत हुई थी जबकि जनवरी से अप्रैल तक 104 लोगों की मौत हो गई थी। प्रतिदिन औसतन 13 से 14 लोगों की मौत हो रही है। शहरी क्षेत्र में मार्च 2020 से लेकर अब तक 170 के लगभग मौत हो चुकी है। बाकी मौत ग्रामीणक्षेत्र में हुई है। जिले का रिकवरी रेट भी 76.79 तक पहुुंच चुका है।

329 मरीज हुए ठीक

कोरोना से शुक्रवार को 329 मरीज ठीक हुए हैं। अब तक ठीक होने वालों की संख्या 12946 तक पहुंच चुके हैं। जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 2691 है। शुक्रवार को 1023 लोगों के सेंपल लिए गए। फिलहाल 1768 लोगों के सेंपलों की रिपोर्ट आना बाकी है।

ऐसी भीड़ लगेगी को तो फैलेगा कोरोना: वैक्सीन के लिए अस्पताल में लगी भीड़, नहीं हो रहा नियमों का पालन

सफीदों. संक्रमण से रोज हो रही मौतों के बाद भी लोग सबक नही ले रहे। सफीदों के नागरिक अस्पताल में स्थित वैक्सीनेशन सब सेंटर में देखने को मिला। शुक्रवार को वैक्सीन लगवाने आए लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का खुलकर मजाक उड़ाया। लोग एक दूसरे से सटकर भीड़ मे घंटों तक खड़े रहे।

पुलिस कर्मचारी दूरी कायम कराने का प्रयास बीच-बीच मे करते रहे, लेकिन असर भीड़ पर नहीं था। कई लोगों का सुझाव था कि ऐसी व्यवस्था हो, जिसमे वैक्सीन लगवाने का इच्छुक व्यक्ति अपना नाम लिखवाकर नंबर ले ले और जब तक उसका नंबर न आए परस्पर दूरी बनाकर आसपास कहीं बैठकर प्रतीक्षा करे।

खबरें और भी हैं...