ऐसे कैसे मिलेगा राजस्व:एनडीसी को छोड़कर किसी आवेदन पर डिवेलपमेंट चार्ज नहीं हो रहा जमा, 40 लाख रुपए बकाया

जींद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नाम बदलने, एरिया ठीक कराने, प्राॅपर्टी ट्रांसफर, हाउस टैक्स ड्यूज ठीक कराते समय जमा के ऑप्शन पर दिखा रहा पेंडिंग, 30 लाख रुपए वसूली का रखा लक्ष्य

बेशक सरकार ने प्रॉपर्टी टैक्स व डिवेलपमेंट चार्ज वसूलने के लिए एनडीसी (नॉन ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट) पोर्टल बना दिया हो, लेकिन यहां पर केवल रजिस्ट्री के लिए आवेदन करने वाले लोगों से ही नगर परिषद द्वारा डिवेलपमेंट चार्ज वसूला जा रहा है, जबकि नियम कहता है कि यदि किसी को नगर परिषद से संबंधित किसी भी काम के लिए पहले अपना डिवेलपमेंट चार्ज या प्रॉपर्टी टैक्स भरना होता है, लेकिन ऐसा नहीं किया जा रहा है। एनडीसी को छोड़कर बाकी कार्यों के लिए आने वाले आवेदकों की केवल स्क्रूटनी फीस भरवाई जाती है, जबकि डिवेलपमेंट चार्ज के आॅप्शन में पेंडिंग लिखकर छोड़ दिया जाता है।

खास तौर पर उन आवेदनों में ज्यादा दिक्कत आ रही है, जो ऑनलाइन किए जा रहे हैं। ऑनलाइन आवेदन करके आवेदक अपने ऑब्जेक्शन लिख देते हैं, जिसे 10 दिन में नप को ठीक करना होता है। ऐसे में यदि आवेदन करने वाले को रजिस्ट्री नहीं करानी है तो वह डिवेलपमेंट चार्ज नहीं भरता है। ऐसे में उसके अकाउंट के डिवेलपमेंट चार्ज की ऑप्शन में केवल पेंडिंग ही लिखना पड़ता है। पिछले कुछ समय में ऐसे लगभग 250 से ज्यादा आवेदनों पर पेंडिंग ही लिखा गया है। इससे लगभग 10 लाख से ज्यादा का डिवेलपमेंट चार्ज नहीं भरवाया जा सका है। प्रतिदिन 7 से 8 आवेदन ऑनलाइन आते हैं, जिनसे डिवेलपमेंट चार्ज नहीं भरवाया जाता। 2019-20 में नगर परिषद को 16 लाख 97 हजार 900 रुपए डिवेलपमेंट चार्ज के मिले थे। 2020-21 में यह 30 लाख रुपए वसूलने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन डिवेलपमेंट चार्ज केवल 3 लाख 57 हजार 367 रुपए ही मिला था। इस बार यह बढ़ाकर 50 लाख किया गया है, जिसमें से चार महीने में 10 लाख ही जमा हुआ है।

खबरें और भी हैं...