जिले में विकास कार्यों की बौछार:डी प्लान के तहत कार्यों का हुआ वितरण, जिले की सभी एमसी में 317.25 तो ग्रामीण क्षेत्र में

जींदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार द्वारा जिले में विकास कार्यों के लिए डी प्लान (डिस्ट्रिक प्लान) के तहत जारी की गई 19.19 करोड़ रुपए की ग्रांट के कार्यों का वितरण कर दिया गया है। सभी एजेंसियों में 350 से अधिक कार्यों का वितरण किया गया है। 19.19 करोड़ में से 2.44 करोड़ रुपए की राशि चल रहे विकास कार्यों की अदायगी पर खर्च की जाएगी। यानी लगभग 16.75 करोड़ रुपए की राशि विकास कार्यों पर खर्च होगी।

जिले की सभी पांचों एमसी में 53 विकास कार्य कराए जाएंगे, जिसमें सबसे ज्यादा जींद एमसी में 35 विकास कार्य होंगे, जिसमें गलियों, पार्क व अन्य काम किए जाएंगे। इन पर सबसे ज्यादा 1 करोड़ 82 लाख रुपए की राशि खर्च होगी। सबसे कम सफीदों व उचाना नगर पालिका को ग्रांट व कार्य मिले हैं। इसमें उचाना को 3 और सफीदों को 2 (इसमें से एक काम पीडब्ल्यूडी करेगा) काम मिले।

उचाना के लिए 9.5 लाख और सफीदों के दो कार्यों लिए 25.25 लाख रुपए की राशि खर्च होगी। नरवाना में 8 काम कराए जाएंगे, जिन पर 77 लाख और जुलाना में 5 काम होंगे, जिन पर 23.5 लाख रुपए की राशि खर्च की जाएगी। इसके अलावा 13.83 करोड़ के विकास कार्य ग्रामीण व बाकी एजेंसियों द्वारा खर्च किए जाएंगे। इसमें पंचायती राज को 3 करोड़ 70 लाख रुपए के 48 काम दिए गए हैं। इसी प्रकार से 18 स्कूलों के लिए 81 लाख रुपए का बजट समग्र शिक्षा अभियान को दिया गया है। 13 स्कूलों में 52 लाख की लागत से सोलर पैनल भी लगाए जाएंगे।

पिछले साल वापस ले लिए थे ‌8 करोड़

पिछले साल सरकार ने जिले में डी प्लान के तहत 10.52 करोड़ रुपए की ग्रांट जारी की थी, जो नवंबर 2020 में जारी हुई थी, लेकिन फरवरी 2021 में सरकार की तरफ से लगभग 8 करोड़ की राशि वापस मंगवा ली थी। इसके चलते मार्च के बाद भी कई बिल ट्रेजरी में रुक गए थे। अब सरकार ने इस साल के लिए 19.19 करोड़ रुपए की राशि जारी की है।

पहले साल में दो बार मिलती थी राशि

सरकार द्वारा हर साल जिले में विभिन्न विकास कार्य करवाने के लिए डी प्लान के तहत ग्रांट दी जाती है। पहले साल में दो-दो बार ग्रांट आती थी, लेकिन पिछले साल सरकार द्वारा एक बार ही 10.52 करोड़ रुपए की ग्रांट भेजी गई। डी प्लान की ग्रांट को 31 मार्च तक खर्च करना होता है। पिछले वित्त वर्ष में राशि पूरी खर्च नहीं हो सकी थी।

2 करोड़ 44 लाख से पुराने कार्यों का होगा भुगतान

डी प्लान के तहत आई राशि में से 2 करोड़ 44 लाख रुपए की राशि का प्रयोग पिछले बिलों के भुगतान के लिए किया जाएगा। बाकी राशि को नए विकास कार्यों पर खर्च किया जाएगा। पिछले वर्ष के कई कार्य अभी प्रोग्रेस में है, जिनका भुगतान किया जाना है।

डी प्लान के तहत विकास कार्यों का वितरण एजेंसियों को कर दिया गया है। सभी को नियम व शर्तों के अनुसार काम करने के निर्देश दिए गए हैं। -मुकेश कुमार, जिला योजना अधिकारी, जींद।

किसको कितने काम दिए गए और कितना बजट

खबरें और भी हैं...