पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Jind
  • Jind Needs A Specialist Doctor; There Is No Radiologist In The District For 10 Years, If You Have To Do Ultrasound Then You Will Have To Spend More Money

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समस्या:जींद को चाहिए स्पेशलिस्ट डॉक्टर; 10 साल से जिले में कोई रेडियोलॉजिस्ट नहीं, अल्ट्रासाउंड करवाना है तो फिर करना होगा ज्यादा रुपए खर्च

जींद10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल अस्पताल से लेकर जिलेभर में किसी सरकारी अस्पताल में नहीं है ईएनटी सर्जन, 14 लाख आबादी पर एक ही फिजीशियन

जिले में स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की भारी कमी बनी हुई है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पूरे जिले के किसी सरकारी अस्पताल में कोई रेडियोलॉजिस्ट तक नहीं है। जिले के सबसे बड़े सिविल अस्पताल में ही पिछले 10 साल से रेडियोलॉजिस्ट का पद खाली पड़ा है। यदि किसी मरीज को अल्ट्रासाउंड करवाने की जरूरत पड़ती है तो फिर उसे प्राइवेट अस्पताल या फिर पीजीआई जाना पड़ेगा। इस दौरान अल्ट्रासाउंड के लिए महंगा रेट चुकाना पड़ेगा। मरीज के पास इसके सिवाय दूसरा कोई भी चारा नहीं है।

इसी तरह से जिले में दूसरे स्पेशलिस्ट डॉक्टरों जिनमें फिजीशियन, स्किन स्पेशलिस्ट, ईएनटी सर्जन, नेत्र रोग विशेषज्ञ शामिल हैं के भी कई-कई साल से पद खाली पड़े हैं। समस्या कितनी गंभीर है इसका बड़ा प्रमाण ये है कि 14 लाख की आबादी के जिले में इस समय एक ही फिजीशियन उपलब्ध है। सिविल अस्पताल में करीब 4 साल पहले फिजीशियन का पद खाली हुआ था जिस पर अब तक कोई नियुक्ति नहीं हुई है। इसी तरह से आई सर्जन, ईएनटी आदि स्पेशलिस्ट के पद कई सालों से सिविल अस्पताल में ही खाली पड़े हैं।

विशेषज्ञों की नियुक्ति की सरकार से करेंगे मांग
जिले में विशेषज्ञ चिकित्सकों की काफी कमी है। इनकी नियुक्ति के लिए सरकार से मांग करूंगा। विशेषज्ञ चिकित्सकों के न होने के कारण स्वभाविक है लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। डाॅ. मंजीत सिंह, सिविल सर्जन जींद।

बड़ी परेशानी... इलाज के साथ-साथ मेडिकल करवाने के लिए जाना पड़ता है दूसरे शहर
विशेषज्ञ चिकित्सकों के जिले में न होने के कारण आमजन को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें इलाज के लिए तो प्राइवेट या फिर पीजीआई जाना पड़ता ही है। इसके साथ-साथ यदि किसी को मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाना है तो उसे भी दूसरे जिले में जाना पड़ता है। वहां से विशेषज्ञ चिकित्सक की जांच के बाद ही मेडिकल सर्टिफिकेट बन पाता है।

सीएचसी स्तर पर ही नियुक्त होने चाहिए विशेषज्ञ
विशेषज्ञ चिकित्सकों की नियुक्ति को लेकर स्वास्थ्य विभाग के नियम बताते हैं कि सीएचसी (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र) स्तर पर ही कई विशेषज्ञ चिकित्सक जिसमें फिजीशियन, नेत्र रोग विशेषज्ञ, डेंटल सर्जन, सर्जन, रेडियोलॉजिस्ट की नियुक्ति होनी चाहिए। सब डिवीजन अस्पतालों व सिविल अस्पताल में सभी रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सक नियुक्त होने चाहिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें